सेना में अफसर बनी शहीद मेजर की पत्नी, पहनेंगी वर्दी, कांधे पर चमकेंगे सितारे

जब कोई जवान देश के लिए शहीद होता है तो उसके परिवार के साथ पूरा देश रोता है…देश की रक्षा करते हुए कई जवानों ने देश के लिए शहादत का रास्ता चुना औऱ देश का आजाद-आबाद किया…पूरे देश ने शहीद को श्रद्धाजलि अर्पित की लेकिन एक शहीद मेजर की पत्नी ने अपने पति को खास तरीके से श्रद्धांजलि देकर देश का सीना गर्व से और ऊंचा किया.

साल 2017 के दिसंबर में इंडो-चाइन बॉर्डर स्थित तवांग में शहीद हुए थे मेजर

जी हां साल 2017 के दिसंबर में इंडो-चाइन बॉर्डर स्थित तवांग में शहीद हो गए थे. जिसके बाद अब उनकी पत्नी गौरी महादिक जल्द ही भारतीय सेना में शामिल होंगी। उन्होंने इसे अपने शहीद पति महादिक को श्रद्धांजलि बताया है। उन्होंने सेना में भर्ती होने के लिए परीक्षाओं की तैयारी के लिए वर्ली की एक लॉ फर्म में नौकरी छोड़ दी। गौरी ने कंपनी सेक्रेटरी की परीक्षा भी पास की है।

बतौर लेफ्टिनेंट अगले साल भारतीय सेना में शामिल होंगी

ऑफिसर ट्रेनिंग एकेडमी चेन्नई में ट्रेनिंग होने के बाद गौरी बतौर लेफ्टिनेंट अगले साल भारतीय सेना में शामिल हो जाएंगी। गौरी उन 16 अभ्यर्थियों में से एक हैं जो एसएसबी की परीक्षाओं में शामिल हुईं और परीक्षा टॉप कर चेन्नई स्थित OTA में  ट्रेनिंग के लिए क्वालिफाई किया। अप्रैल 2019 से  गौरी की 49 हफ्तों की ट्रेनिंग शुरू होगी और वह मार्च 2020 में सेना में शामिल हो जाएंगी।

गैर-तकनीकी श्रेणी में लेफ्टिनेंट के रूप में नियुक्त किया

गौरी ने कहा कि मुझे वॉर विडोज के लिए गैर-तकनीकी श्रेणी में लेफ्टिनेंट के रूप में नियुक्त किया जाएगा। गौरी ने कहा कि ‘एसएसबी परीक्षा रक्षा कर्मियों की विधवाओं के लिए आयोजित की गई थी। बैंगलोर, भोपाल और इलाहाबाद 16 उम्मीदवारों ने परीक्षा पास की है।

मुझे वही चेस्ट नंबर -28 मिला जो मेरे पति को OTA के चयन से पहले आवंटित किया गया था-पत्नी

गौरी ने कहा कि हमें सीडीएस द्वारा आयोजित लिखित परीक्षा से छूट दी गई। हम सीधे भोपाल में मौखिक परीक्षा के लिए उपस्थित हुए। गौरी के लिए यह यात्रा एक ‘सुखद संयोग’ भी थी। गौरी ने कहा कि भोपाल परीक्षा केंद्र में, मुझे वही चेस्ट नंबर -28 मिला जो मेरे पति को OTA के चयन से पहले आवंटित किया गया था।

शहीद की पत्नी का बयान

शहीद की पत्नी का कहना है कि वो मुझे हमेशा हंसते हुए देखना चाहते थे. मैं हमेशा रोकर नहीं बैठ सकती थी इसलिए मैने फैसला किया की एक दिन जरुर पति की वर्दी पहनूंगी औऱ उसके कंधे पर भी पति की तरह सितारे चमकेंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here