शहीद के भाई ने जिला प्रशासन द्वारा की गई हरकत को बताया “अपमानजनक”

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शहीद सीमा सुरक्षा बल के कांस्टेबल प्रेम सागर के परिवार से मिले उनके घर आए थे। 12 मई को मुख्यमंत्री के दौरे के कुछ ही मिनट पहले, सागर के घर में एयर कंडीशनर, नए पर्दे, सोफे और कालीन लाया गया था। हालांकि, परिवार को  झटका तब लगा जब मुख्यमंत्री के जाने के बाद 30 मिनट के अंदर देवरिया जिला प्रशासन ने एसी, सोफे और कालीन को हटा लिया।

सागर के परिवार ने समाचार एजेंसी को बताया, “मुख्यमंत्री के जाने के बाद 15 से 30 मिनट के भीतर ही अधिकारियों ने कालीन, सोफे और एसी को हटा लिया था।”

योगी की यात्रा से पहले प्रशासन की कुछ दया दृष्टि गांव पर भी पड़ी। गुरुवार को, टिकमपाल गांव में सड़कों को साफ किया गया, और खुले नाले को कवर किया गया। बाद में दयासगर ने एनडीटीवी को बताया कि पूरी घटना एक “अपमान” थी।

1 मई को जम्मू और कश्मीर के पुंछ जिले में कांस्टेबल प्रेम सागर शहीद हुए थे। इस इलाके में नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तानी सीमा पर भारी गोलीबारी की गई थी, यहाँ कर्नी में दो भारतीय फॉरवर्ड पोस्ट्स को लक्षित किया गया था। पाकिस्तानी सेना ने सागर और एक अन्य सैनिक के साथ बर्बरता दिखाई थी । बीएसएफ कांस्टेबल के परिवार ने ऐलान किया था जब तक मुख्यमंत्री नहीं आएंगे तब तक शहीद के अंतिम संस्कार करने से इंकार कर दिया था।

अपनी यात्रा के दौरान, आदित्यनाथ ने परिवार को 4 लाख रुपये का चेक सौंप दिया। उन्होंने सागर के बच्चों को नौकरी देने का भी वादा किया और कहा कि टिकमार में एक शहीद स्मारक और लड़कियों की इंटर कॉलेज स्थापित की जाएगी। उन्होंने एक रसोई गैस एजेंसी के आवंटन के लिए परिवार की मांग के बारे में केंद्र को सिफारिश करने का वादा किया।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here