कैबिनेट मंत्री पर गैर इरादतन हत्या का मुकदमा दर्ज करने और राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू करने की मांग

देहरादून : कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज समेत बहुएं बेटे और कर्मचारी संक्रमित पाए जाने के बाद उत्तराखंड में भूचाल सा आ गया है। प्रदेश की जनता के समेत कांग्रेस ने सरकार पर हमला करना शुरु कर दिया है। सतपाल महाराज के कोरोना संक्रमित पाए जाने का बाद जनता समेत कांग्रेस उन पर गैर इरादतन हत्या का मुकदमा दर्ज करने और राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू करने की मांग कर रही है।

इस पर प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना का कहना है कि त्रिवेंद्र सरकार कोरोना संक्रमण से निपटने में पूरी तरह नाकाम रही है। कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी व प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने पहले दिन ही स्पष्ट कर दिया था कि कांग्रेस कोरोना के खिलाफ पूरी तरह से सरकार के साथ है। इसके बावजूद मुख्यमंत्री को एक बार भी किसी भी विपक्षी नेता से सलाह मशविरा करने का नहीं सोचा। जिसका नतीजा ये है कि कोरोना राज्य में सरकार तक पहुंच गया है।

सरकार पर उठाए सवाल

सूर्यकांत धस्माना ने कहा कि मंत्री सतपाल महाराज के निजी आवास पर क्वारंटाइन का नोटिस चस्पा होने के बावजूद उन्हें कैबिनेट बैठक में भाग लेने से रोका नहीं गया। इस लापरवाही के लिए सरकार ने किसी के खिलाफ मुकदमा दर्ज नहीं किया।

राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू करने की मांग

वहीं प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष धीरेंद्र प्रताप और महामंत्री विजय सारस्वत ने कहा कि सरकार पर क्वारंटाइन होने का खतरा अब भी मंडरा रहा है, लेकिन पार्टी राज्य में राष्ट्रपति शासन के पक्ष में नहीं है। इस घटना से साफ हो गया है कि मुख्यमंत्री और तमाम मंत्रियों ने ही आरोग्य सेतु एप को डाउनलोड नहीं किया है। कांग्रेस समेत प्रदेश के कई लोगों ने राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू करने की मांग की है।

सतपाल महाराज पर गैर इरादत हत्या का मुकदमा दर्ज करने की मांग

वहीं कांग्रेस कमेटी की पूर्व प्रवक्ता गरिमा माहरा दसौनी ने कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज पर गैर इरादतन हत्या का मुकदमा दर्ज करने की मांग की है। वहीं लोग भी सतपाल महाराज पर गैर इरादत हत्या का मुकदमा दर्ज करने की मांग कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here