ऋषिकेश पुलिस को बड़ी कामयाबी, यूपी-गाजियाबाद के चोर गिरोह का किया पर्दाफाश

देहरादून : ऋषिकेश कोतवाली पुलिस को शातिर चोर गिरोह को पकड़ने में बड़ी कामयाबी मिली. जी हां कोतवाली पुलिस ने दुकान का शटर तोड़कर लाखों रूपये के मोबाईल फोन चोरी करने वाले गिरोह के दो शातिर चोरों को गिरफ्तार किया औऱ साथ ही चोरी में प्रयुक्त लग्जरी होण्डा सिटी कार और चोरी के 118 नये सील बंद मोबाईल फोन और तीन फर्जी नम्बर प्लेट बरामद किए. वहीं तीन चोर मौके से फरार हो गए.

दरअसन 28 फरवरी को थाने पर सुमित सेमल्टी निवासी गुमानीवाला, ऋषिकेश ने शिकायत की कि 27 फरवरी की रात अज्ञांत चोरो ने उसकी दुकान का ताला तोड़कर लाखों रूपये के लगभग 132 (सील बंद) मोबाईल फोन, एक लैपटाॅप, 40 हजार रूपये नगद और डीवीआर चोरी कर लिया है। इस सूचना पर थाना ऋषिकेश पर अज्ञांत चोरों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया.

एसएसपी के आदेश के बाद 06 पुलिस टीमें बनायी गयी

वहीं इस चोरी की घटना के बाद क्षेत्रीय दुकानदारों और लोगों द्वारा जल्द से जल्दा खुलासा करने की मांग की गयी। जिसे गंभीरता से लेते हुए एसएसपी के आदेश में 06 पुलिस टीमें जो की वर्दी और सादी वर्दी में थे बनायी गयी. जिससमे टीमों का अलग-अलग काम सौंपा गया.

पुलिस टीमों ने 300 से भी अधिक सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली

वहीं इसके बाद पुलिस टीम ने 300 से भी अधिक सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली. फुटेज में पुलिस टीम को पांच(5) संदिग्ध व्यक्ति और एक गोल्डन रंग की होण्डा सिटी कार में दिखाई दी जिनके द्वारा मोबाईल चोरी की घटना को अंजाम दिया गया। होटलों के रजिस्टर और यात्रियों द्वारा दी गई आई.डी भी चैक कर सभी का सत्यापन किया गया। जिसमें पुलिस टीम को सफलता हाथ लगी। पुलिस टीम को जानकारी प्राप्त हुई कि मोबाईल चोरी की घटना को अंजाम देने वाला गैगं डासना गाजियाबाद के निवासी हैं। इस पर पुलिस टीम द्वारा डासना गाजियाबाद मे मुखबिर तन्त्र को सक्रिय किया गया।

ऐसे आए शातिर चोर पकड़ में

5 मार्च को पुलिस टीम चोरों की जानकारी के लिए फिर से गाजियाबाद जा रही थी कि तभी मुखबिर से सूचना मिली कि मोबाईल चोर आज मोबाईल फोनों को बेचने के लिये उसी गोल्डन रंग की होण्डा सिटी कार से जा रहे हैं जो कि मुज्जफरनगर बाईपास होते हुये जायेगें। इस सूचना पर पुलिस टीम राणा चोक मुज्जफरनगर पर गोल्डन रंग की होण्डा सिटी कार की निगरानी करने लगी। शाम को पुलिस टीम को एक गोल्डन रंग की होण्डा सिटी कार आती दिखाई दी जिसे पुलिस टीम ने आवश्यक बल प्रयोग कर रोकने की कोशिश की जिस पर कार चालक ने कार को तेजी से रोका और दरवाजा खोलकर कार में सवार चालक व अन्य तीन व्यक्ति मौके का फायदा उठाकर भाग गये। पुलिस द्वारा दो चोरों को कार के अन्दर की पकड़ लिया। कार की तलाशी लेने पर कार के अन्दर से दो अलग अलग प्लास्टिक कट्टों में 118 मोबाईल फोन व तीन अलग अलग नम्बरों की नम्बर प्लेट बरामद हुई। बरामद सारे फोन ऋषिकेश की घटना से सम्बन्धित थे। चोरो द्वारा कार पर यू0पी0-12-बीजे-1244 नम्बर की नम्बर प्लेट लगायी हुई थी, जो कि फर्जी नम्बर प्लेट थी।

 नाम पता गिरफ्तार अभियुक्त

1- मौहम्मद फिरोज पुत्र बाबूद्दीन, निवासी वार्ड नं0 05, यासनीगढी डासना, मसूरी, जिला गाजियाबाद, उत्तरप्रदेश

2- तहसीन पुत्र सलीम निवासी वार्ड नम्बर 5, यासीनगढी डासना, थाना मूसरी, जिला गाजियाबाद उत्तरप्रदेश.

नाम पता फरार अभियुक्त

1 – मौसीन पुत्र सलीम निवासी वार्ड नम्बर 5, यासीनगढी डासना, थाना मूसरी, जिला गाजियाबाद उत्तरप्रदेश

2- मुस्तकीम उर्फ सलमान पुत्र मुर्शलीन निवासी ग्राम साजामल, थाना किठोर, जिला मेरठ उत्तरप्रदेश हाल निवासी वार्ड नं0 08, आफताब कालोनी निकट मदरशा मस्जिद डासना, थाना मूसरी, जिला गाजियाबाद उत्तरप्रदेश

3-  मौहम्मद राजूद्दीन पुत्र स्व0 काले शौकत निवासी डासना, थाना मूसरी, जिला गाजियाबाद उत्तरप्रदेश हाल निवासी ग्राम मुकीमपुर पिलखुवा, थाना भोजपुर, जिला हापुड़,  उत्तरप्रदेश

 माल बरामदगी का विवरण

1- सैमसंग, ओप्पो, वीवो, माईक्रोमैक्स, नोकिया, लावा, इण्टेक्स, जियो कम्पनी के टच स्क्रीन व कीपेड वाले 118 मोबाईल फोन( कीमत लगभग पांच लाख रूपये).

2- घटना में प्रयुक्त होण्डा सिटी कार नम्बर यू0पी0-16 ई 8836.

3- पकड़े जाने के डर से बचने के लिये कार में प्रयुक्त की जाने वाली अलग अलग नम्बरों की तीन फर्जी नम्बर प्लेट

पूछताछ का विवरण

अभियुक्त मौहम्मद फिरोज ने बताया कि मैं वर्तमान में वार्ड नम्बर 05, डासना गाजियाबाद में सभाषद हॅू। घटना के समय मैं अपने साथी राजूद्दीन, मुस्तकीम, मौसीन व तहसीन के साथ होण्डा सिटी कार से चोरी की वारदार करने ऋषिकेश आये थे। घटना से पहले हमने दिन के समय दुकान की अच्छी तरह से रैकी कर कलियर में जाकर रुके थे, तथा रात्रि के समय मौका पाकर हमने दुकान के शटर का ताला तोड़कर शटर उठाकर दुकान से 132 मोबाईल फोन चोरी कर लिये थे। पकड़े जाने के डर से बचने के लिये हमने दुकान का डीवीआर भी चोरी कर लिया था। हम लोग इसी कार में दिल्ली, उत्तरप्रदेश व उत्तराखण्ड के नम्बरों की नम्बर प्लेट लगाकर जाते थे ताकि पुलिस हमें लोकल का समझ कर न रोके। घटना के दिन भी हमने यू0के0 08एसी 5840 नम्बर की नम्बर प्लेट लगा रखी थी। आज हम लोग इन मोबाईलों को बेचने के लिये निकले थे कि आप लोगो ने पकड़ लिया।

आपराधिक इतिहास 

घटना में सम्मिलित सभी अभियुक्त शातिर किस्म के चोर हैं, जो कि थाना मसूरी गाजियाबाद, किठोर व अन्य जगहों से चोरी व अन्य मामलों में जेल जा चुके हैं। अन्य आपराधिक मामलों की जानकारी की जा रही है।शेष तीनो अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतु एक टीम उनके सम्बन्धित ठिकानों पर रवाना की गयी है, जिनकी शीघ्र गिरफ्तारी की जायेगी।

पुलिस टीम

1- रितेश शाह, प्रभारी निरीक्षक ऋषिकेश

2- उप०नि० मनोज नैनवाल

3- उप०नि० गिरीश नेगी

4- उप०नि० कुलदीप रावत

5- उप०नि० विनय शर्मा

6- कॉन्स्टेबल नवनीत नेगी

7- कांस्टेबल मनोज कुमार

8- कॉन्स्टेबल कमल जोशी

9- कांस्टेबल नीरज कुमार

10- कांस्टेबल संजीव कुमार

11- कांस्टेबल कृष्ण प्रकाश

12- कां० चालक जसपाल सिंह

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here