उत्तराखंड में खुलासा : प्रेमी के साथ मिलकर की थी पति की हत्या, कनपट्टी पर मारी थी गोली

उधमसिंह नगर के केलाखेड़ा में दिपावली के दिन एक व्यक्ति की हत्या का मामला सामने आय़ा था जिस मामले में पुलिस ने मृतक की पत्नी और उसके प्रेमी को गिरफ्तार किया है। साथ ही निशानदेही पर तमंचा और खोखा बरामद किया।

जसवंत की कनपटी में गोली मारकर की गई थी हत्या

पुलिस ने जानकारी देते हुए बताया कि प्रेमी के चक्कर में पत्नी ने अपने पति की हत्या की। मिल जानकारी के अनुसार दिपावली के दिन 14 नवंबर की रात गांव रम्पुरा काजी में पत्नी सुरजीत कौर और दो बच्चों के साथ सो रहे जसवंत सिंह की कनपटी में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। बीते दिन एसपी राजेश भट्ट और सीओ दीपशिखा अग्रवाल ने इस मामले का खुलासा किया औऱ बताया कि सब सो रहे थे जब मृतक को गोली मारी गई। ऐसे में बगल में सो रही पत्नी को कैसे पता नहीं चला।मृतक की पत्नी सुरजीत कौर ने इसकी भनक तक न होने की बात कही जिस पर पुलिस को शक हुआ।

इस आधार पर पुलिस ने महिला से सख्ती से पूछताछ की तो पत्नी ने सारी सच्चाई उगल दी। पत्नी ने प्रेमी के साथ मिलकर पति की हत्या करने की बात कबूली। पुलिस ने मृतक की पत्नी और उशके प्रेमी रणजीत सिंह निवासी गांव भोगपुर डैम गुरुद्वारा तीरथनगर पतरामपुर (जसपुर) को गिरफ्तार कर लिया गया। उसकी निशानदेही पर तमंचा, खोखा और धमकी भरे मिले पत्र की डायरी भी बरामद कर ली है।
मृतक की पत्नी सुरजीत कौर और रणजीत सिंह के बीच चल रहा था अफेयर 

जानकारी में पता चला कि मृतक की पत्नी सुरजीत कौर और रणजीत सिंह के बीच अफेयर चल रहा था। दोनों ने साथ रहने की चाह में हत्या को अंजाम दिया। महिला का पति अफेयर के बीच रोड़़ा बन रहा था जिसे रास्ते से हटाने की पत्नी औऱ उसके प्रेमी ने साजिश रची। महिला ने प्रेमी को भगा दिया था।

दोनों का पांच साल से प्रेम प्रसंग चल रहा था
जानकारी मिली है कि दोनों का पांच साल से प्रेम प्रसंग चल रहा था। दोनों की मुलाकात एक शादी में हुई थी। दोनों तबसे  बात करते थे। दोनों के बीच दोस्ती हुई और दोस्ती प्यार में बदली। इसकी भनक महिला के पति को लग गई थी। दोनों मिल नहीं पा रहे थे जिसके बाद दोनों ने हत्या की योजना बनाई। वहीं पुलिस ने बताया कि हत्या के आरोप से बचने के लिए महिला और उसके प्रेमी ने मौके पर धमकी भरा पत्र और समुदाय विशेष वर्ग की सफेद टोपी रख दी थी। हत्यारोपी रणजीत सिंह ने धमकी भरा पत्र अपने 13 वर्षीय भतीजे से लिखवाया था। पत्र की डायरी भी बरामद कर ली है। जानकारी मिली है कि जसवंत सिंह के 10 साल तक संतान नहीं होने पर उसने अपने भाई मलकीत सिंह के बेटे प्रदीप सिंह को गोद लिया था। उसके बाद पुत्र सुखदेव सिंह पैदा हुआ। सुखदेव सिंह को सुरजीत कौर अपने प्रेमी रणजीत सिंह का ही बताती है। बताते हैं कि मृतक जसवंत सिंह हरियाणा सहित अन्य स्थानों पर मजदूरी करने जाता था। इस दौरान प्रेमी रणजीत सिंह का सुरजीत के पास आना जाना लगा रहता था।
तीन जांच टीम में  एसओ प्रभात कुमार, एसआई मनोज कोठारी, सुशील कुमार, गणेश टोलिया, इंद्र सिंह, संजय कुमार, मनोहर चंद्र, ओमप्रकाश, देवेंद्र सिंह राजपूत, जगदीश सिंह, तोरण सिंह, महेश कोहली, त्रिलोक सिंह, जसविंदर सिंह, गिरीश कांडपाल, जरनैल सिंह शामिल रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here