एक साथ जुटे 13 अखाड़ों के प्रतिनिधि संत, महाकुंभ मेला निर्माण कार्यों में देरी पर गुस्सा

हरिद्वार: 2021 में होने वाले महाकुंभ मेले के लिए अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद की तीसरी बैठक कनखल स्थित निर्मल अखाड़े में की गई। बैठक में अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महामंत्री समेत सभी तेरह अखाड़ों के प्रतिनिधि संतों ने प्रतिभाग किया। अखाड़ा परिषद की बैठक में आगामी कुंभ मेले के लिए सरकार द्वारा किए जा रहे निर्माण कार्यों की समीक्षा की गई।

अखाड़ा परिषद के अधिकतर संत सरकार के निर्माण कार्यो की धीमी गति से असंतुष्ट नजर आए। अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष श्री महंत नरेंद्र गिरि ने कहा कि जिस गति से सरकार के द्वारा कई निर्माण कार्य करवाए जा रहे हैं उससे नहीं लगता कि कुंभ मेले से पहले यह सभी कार्य पूरे हो पाएंगे। कुंभ मेले में एक साल से भी कम का समय बचा है सरकार को चाहिए कि जल्द से जल्द निर्माण कार्य को पूरा करें। वहीं, परिषद के महामंत्री महंत हरि गिरि ने कहा कि मुजफ्फरनगर हरिद्वार नेशनल हाईवे का निर्माण कार्य अगर पूरा नहीं होता तो सरकार की अन्य सभी तैयारियां धरी की धरी रह जाएंगी और सरकारी स्तर पर कुंभ मेले का निपटारा बहुत मुश्किल हो जाएगा।

अखाड़ा परिषद की बैठक में केंद्र सरकार द्वारा गठित श्री राम मंदिर ट्रस्ट पर भी असंतोष जताया गया। अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी का कहना है कि उन्होंने केंद्र सरकार से निर्वाणी अखाड़े के महंत धर्मदास को ट्रस्ट में शामिल करने की मांग की थी लेकिन सरकार ने नहीं किया। ट्रस्ट का अध्यक्ष एक गृहस्थ को बनाया गया है। संतों का गृहस्थ व्यक्ति की अगुवाई में कार्य करना उचित नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here