रीना कंडारी ने बढ़ाया उत्तराखंड का मान, DRDO में बनी वैज्ञानिक, पिता हैं ड्राइवर

रुद्रप्रयाग : एक बार फिर उत्तराखंड की बेटी ने प्रदेश का मान बढ़ाया। फिर एक उत्तराखंडी ने अपना डंका बजाया। एक बार फिर से देश की कमान उत्तराखंड की बेटी के हाथ में आई है। जी हां हम बात कर रहे है रुद्रप्रयाग अगस्त्यमुनि ब्लॉक के धनपुर पट्टी के पीड़ा-खैरपाणी गांव निवासी रीना कंडारी की जिनका चयन डीआरडीओ यानी की भारतीय रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन बंगलूरू में राजपत्रित अधिकारी के पद पर चयन हुआ है। रीना की इस उपलब्धि पर क्षेत्र में खुशी की लहर है।

मिली जानकारी के अनुसार रीना के पिता हीरा सिंह कंडारी वाहन चालक हैं जबकि मां गृहणी है। 8वीं तक गांव में ही पढ़ाई की और इसके बाद  जीजीआईसी रुद्रप्रयाग और माई गोविंद गिरी विद्या मंदिर से 10वीं और 12वीं की। 12वीं के बाद पंत कृषि एवं प्रोद्योगिकी विवि पंतनगर से कंप्यूटर साइंस से बीटेक की पढ़ाई करते हुए उसका चयन पौड़ी जनपद में सूचना एवं विज्ञान अधिकारी के पद पर हुआ। 2 साल सेवा देने के बाद अब रीना का चयन रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन बंगलूरू में हुआ है।

खुशी जाहिर करते हुए रीना के पिता ने कहा कि उनकी बेटी रीना ने उनका ही नहीं बल्कि पूरे प्रदेश का मान बढ़ाया है। बताया कि रीना बचपन से ही पढ़ने-लिखने में होशियार थी। उसका बचपन से ही वैज्ञानिक बनने का सपना था। विधायक भरत सिंह चौधरी, जिपं सदस्य शीला रावत व ग्राम प्रधान अर्जुन सिंह नेगी समेत क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों व अन्य लोगों ने खुशी जताई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here