25 साल की उम्र में देवभूमि का लाल शहीद, भाई भी फौज में, पत्नी-मां बेसुध

चंपावत : एक बार फिर से उत्तराखंड के लिए और देश के लिए बुरी खबर है. जी हां देश की रक्षा करते हुए चंपावत का लाल जम्मू में शहीद हो गया. वहीं मुठभेड़ के दौरान भारतीय सेना ने एक आतंकी  मार गिराया है।

25 साल की उम्र में शहीद, घर में मातम

मिली जानकारी के अनुसार तल्लादेश के रियासीबमन गांव के मूल निवासी और 50 आरआर के जवान राहुल 25 साल की उम्र में शहादत को प्राप्त हुए। शहीद जवान राहुल 18 कुमाऊं और वर्तमान में 50 आरआर में जम्मू में तैनात थे। राहुल 2012 में भर्ती हुए थे। राहुल का बड़ा भाई राजेश भी सेना में है जो की 2009 में भर्ती हुए और वर्तमान में लखनऊ में तैनात हैं। राहुल की शहादत से उत्तराखंड सहित पूरे देश में शोक की लहर है।बता दें कि शहीद राहुल रैंसवाल (25) के पिता वीरेंद्र सिंह रैंसवाल इस वक्त पत्नी हरू देवी के साथ चंपावत के कनलगांव में रहते हैं।  पत्नी का रो-रोकर बुरा हाल है। शहीद जवान की शादी 2007 को हुईथी। शहीद की 8 महीने की बच्ची है।

वहीं अपर जिलाधिकारी टीएस मर्तोलिया ने बताया कि शहीद राहुल रैंसवाल का अंतिम संस्कार पूरे सैन्य सम्मान के साथ किया जाएगा। शहीद की पार्थिव देह बृहस्पतिवार तक यहां पहुंचने की संभावना जताई जा रही है।

पुलवामा के पंपोर में मुठभेड़, एक जवान और एक पुलिसकर्मी शहीद

बता दें कि आज चंपावत का लाल राहुल रैंसवाल पुलवामा के अवंतीपुरा इलाके में आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हो गया है। मिली जानकारी के अनुसार दक्षिणी कश्मीर में पुलवामा के पंपोर इलाके में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ शुरू हो गई है। इस मुठभेड़ में एक आतंकी मारा गया है। वहीं एक जवान घायल हो गया है। अभी भी दो आतंकियों के छिपे होने की आशंका है। मुठभेड़ के दौरान भारतीय सेना का एक जवान और जम्मू-कश्मीर पुलिस का एक एसपीओ शहीद हो गया है। आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ जारी है।

मंगलवार सुबह सुरक्षाबलों को सूचना मिली कि पंपोर इलाके में आतंकी छिपे हुए हैं।आनन-फानन में सुरक्षाबलों ने इलाके की घेराबंदी करनी शुरू की। इस दौरान आतंकियों ने खुद को घिरा पाकर सुरक्षाबलों पर फायरिंग करनी शुरू कर दी। जवाबी कार्रवाई में सेना ने जैश के एक आतंकी को मार गिराया है। वहीं एक जवान घायल हो गया है जबकि घायल हुआ एक अन्य जवान देश की रक्षा करने के दौरान शहीद हो गया है।

एक जवान राजेंद्र लापता

वहीं बता दें कि देवभूमि का एक बेटा और सेना का जवान राजेंद्र सिंह नेगी 8 जनवरी से लापता है. जिनका परिवार देहरादून में रहता है और पिता-भाई गांव में रहकर खेती-बाड़ी और मजदूरी करते हैं। खबर है कि पोस्ट में तैनाती के समय जवान राजेंद्र सिंह नेगी बर्फ में फिसल कर पाकिस्तान जा पहुंचे हैं. अभी तक उनकी कोई खबर नहीं है और परिजनों का रो रो कर बुरा हाल है. जवान के परिवार का सब्र का बांध टूट रहा है। वहीं उत्तराखंड के लोगों ने सरकार से उन्हें अभिनंदन की तरह वतन वापस लाने की मांग की है.

1 COMMENT

  1. भाँग के नशे में पोस्ट डाल रहा है क्या। 25 साल की उम्र में शाहिद हुआ कह रहे हो और 2002 में भर्ती हुआ। दिमाग को ठिकाने में रखकर पोस्ट डालो। सही जानकारी डालो

Leave a Reply to Pahadibanda Cancel reply

Please enter your comment!
Please enter your name here