पढ़िए हल्दवानी मामले में कोर्ट की अहम बातें, अदालत ने क्या कहा?

supreme courtहल्दवानी के बनभूलपुरा का इलाका फिलहाल बच गया है। इस इलाके में रहने वालों को सुप्रीम कोर्ट ने राहत दी है और उनके घरों को गिराए जाने के हाईकोर्ट के आदेश पर फिलहाल रोक लगा दी है।

गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान अदालत ने इस मामले में कई टिप्पणियां की हैं। कोर्ट ने राज्य सरकार को नोटिस दे दिया है और इसके साथ ही रेलवे को भी नोटिस जारी किया गया है।

जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस अभय एस ओका की पीठ ने 20 दिसंबर, 2022 को उच्च न्यायालय की एक खंडपीठ द्वारा पारित फैसले के खिलाफ दायर विशेष अनुमति याचिकाओं के एक बैच में उत्तराखंड राज्य और रेलवे को नोटिस जारी करते हुए यह आदेश पारित किया।

  • मुद्दे के दो पहलू हैं। एक, वे पट्टों का दावा करते हैं। दूसरा, वे कहते हैं कि लोग 1947 के बाद चले गए और जमीनों की नीलामी की गई। लोग इतने सालों तक वहां रहे। उन्हें पुनर्वास दिया जाना चाहिए। साल दिन में इतने लोगों को कैसे हटाया जा सकता हैं?”

जस्टिस कौल ने कहा,

  • आप उन लोगों के परिदृश्य से कैसे निपटेंगे जिन्होंने नीलामी में जमीन खरीदी है। आप जमीन का अधिग्रहण कर सकते हैं और उसका उपयोग कर सकते हैं। लोग वहां 50-60 वर्षों से रह रहे हैं, कुछ पुनर्वास योजना होनी चाहिए, भले ही यह रेलवे की जमीन हो। इसमें एक मानवीय पहलू है।”
  • कोई समाधान निकालें, ये एक मानवीय मसला है।
  • “यह कहना सही नहीं होगा कि वहां दशकों से रह रहे लोगों को हटाने के लिए अर्धसैनिक बलों को तैनात करना होगा।”
  • उत्तराखंड राज्य को एक व्यावहारिक समाधान खोजना होगा।”
  • “हमने पार्टियों के वकील को सुना है। एएसजी ने रेलवे की आवश्यकता पर जोर दिया है। इस पर विचार किया जाना चाहिए कि क्या पूरी जमीन रेलवे की है या क्या राज्य सरकार जमीन के एक हिस्से का दावा कर रही है। इसके अलावा उसमें से, पट्टेदार या नीलामी खरीदार के रूप में भूमि पर अधिकार का दावा करने वाले कब्जाधारियों के मुद्दे हैं। हम आदेश पारित करने के रास्ते पर हैं क्योंकि 7 दिनों में 50,000 लोगों को नहीं हटाया जा सकता है। एक व्यावहारिक व्यवस्था होनी चाहिए, जिसमें पुनर्वास शामिल है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here