पुलिस ने पकड़े शातिर चोर, कई राज्यों में है स्कूटी डिक्की तोड़ गैंग का जाल

देहरादून : परीक्षा स्थलों पर चोरी की घटनाओं को अंजाम देने वाले शातिर तीन आरोपियों को थाना डालनवाला पुलिस ने ईसी रोड से ग्रिफ्तार किया। आरोपियों ने 10 फरवरी को DAV कॉलेज में हुई परीक्षा के दौरान 7 स्कूटी की डिग्गियों में से एटीएम और मोबाइल चोरी किये थे. OTP की मदद से पिन बदलकर बैंक एकाउंट खाली कर दिये। तीनो में से दो आरोपी दिल्ली यूनिवर्सिटी से बीए की पढ़ाई कर चुके है! साथ ही तीनो ने उत्तराखंड सहित दिल्ली, बिहार में घटनाओं को अंजाम दिया है. पुलिस को इनके कब्ज़े से  6 मोबाईल और 9 हजार 860 रुपए भी बरामद किये है।

जाँच के दौरान सीसीटीवी फुटेज का अवलोकन किया गया तो तीन संदिग्ध व्यक्ति पार्किंग में स्कूटियों की डिग्गी से छेड़खानी करते हुये नजर आये। इस क्रम में आगे बढ़ते हुये सीसीटीवी फुटेज को चैक किया गया तो वही तीन लड़के डी0ए0वी0 पी0जी कॉलेज से पहले आते दिखाई दिये, इसी दौरान यह सूचना मिली कि उक्त चोरी गये ATM का इस्तेमाल करके ओरिएन्टेल बैंक ऑफ कॉमर्स के रेसकोर्स स्थित ATM से 25,000/-रुपये निकाले गये हैं। सूचना पर तत्काल एक टीम ओरिएन्टेल बैंक ऑफ कॉमर्स, रेसकोर्स भेजी गयी, जहां पर सीसीटीवी फुटेज का अवलोकन किया गया तो उक्त तीनों व्यक्तियों द्वारा होण्डा जैज कार दूर खडी कर के उक्त एटीएम पर पैदल पहुंचकर चोरी किये गये ATM से पैसे निकाले गये । इसी क्रम में आगे बढ़ते हुये सीसीटीवी फुटेज का अवलोकन किया गया तो डी0ए0वी0 कट के पास उक्त होण्डा जैज गाडी की पहचान वाहन सं0 UP14BJ-8089 के रूप मे हुयी।

पूछताछ करने पर अभियुक्तो ने बताया कि 10 फरबरी को डीएवी पीजी कॉलेज देहरादून में बीएड की परीक्षा के दिन पार्किंग में खड़ी 6-7 स्कूटियों की डिग्गी खोलकर उनसे ATM/सिम/मोबाइल फोन/ पैसे चोरी कर लिये थे तथा चोरी किये ATM से रेसकोर्स से 25,000/-रुपये निकाले गये थे। चोरी में मिले पर्स, मोबाइल व सिम को हमारे द्वारा तोड़फोड़ कर नदी में फेंक दिया गया था, इससे पूर्व हमारे द्वारा जनवरी व फरवरी माह में गंगनहर हरिद्वार में भी ऐसी वारदातें की गयी थी, जिसमें हमें दोनों घटनाओं से 40-40 हजार रुपये मिले थे। पूर्व में हमारे द्वारा दिल्ली कश्मीरी गेट में भी घटना की गयी थी, जहां हम पकड़े गये थे और हमारे द्वारा बिहार में भी इसी तरह की घटनायें की गयी हैं । हम लोग पेपर में अलग-अलग राज्यों में परीक्षा की तिथि का पता करते हैं, फिर घटना को अंजाम देते हैं। घटना के सम्बन्ध में अभियुक्तो के बैंक एकाउण्ट की जानकारी की जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here