पौड़ी की बहादुर बेटी को किया जाना चाहिए सम्मानित, भालू से ऐसे बचाई ताई-1 साल के बच्चे समेत खुद की जान

animal Bear

पौड़ी: पौड़ी गढ़वाल जिले के थलीसैंण में एक बेटी ने बहादुरी दिखाई. गढ़वाल के 20 साल की बेटी के साहस की हर कोई तारीफ कर रहा है. बता दें कि थैलीसैंण के एक गांव में 1 साल के पोते और 20 साल की भतीजी के साथ मायके से घर लौट रही महिला पर भालू ने हमला कर दिया।

युवती की तारीफ इसलिए क्योंकि महिला की भतीजी ने साहस दिखाते हुए भालू पर दरांती से हमला किया और ताई समेत खुद की और बच्चे की जान बचाई। इस हमले में महिला और युवती भी घायल हुए और 1 साल का पोता सुरक्षित है। दोनों घायलोंं को श्रीनगर मेडिकल कालेज के बेस अस्पताल में भर्ती कराया जहां इलाज जारी है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पौड़ी गढ़वाल के तहसील थलीसैंण के चौथान पट्टी स्थित दैड़ा गांव निवासी हीरा देवी अपने 1 साल के पोते और 20 साल की भतीजी के साथ मायके से अपने गांव लौट रही थी तभी रास्ते में घात लगाकर बैठे भालू ने हीरा देवी पर हमला कर दिया।। इस पर उनकी भतीजी रेखा ने बहादुरी दिखाते हुए दरांती से भालू पर कई वार किए और इस हमले से भालू भाग गया। दोनों इस हमले में घायल हुए। पोता सुरक्षित है। स्थानीय लोगों की मदद से दोनों को अस्पताल ले जाया गया जहां उपचार जारी है। इस मामले में वन क्षेत्राधिकारी थलीसैंण अनिल रावत ने जानकारी दी कि भालू के हमले में घायलों को जल्द ही मुआवजा दिया जाएगा।

वहीं 20 साल की रेखा की हर कोई तारीफ कर रहा है। रेखा की बहादुरी की चर्चा गांव समेत शासन प्रशासन में भी है। 20 साल की लड़की ने ताई समेत अपनी और एक साल की बच्चे की जान बचाई. वो तारीफ के काबिल है। ऐसी बेटी को सम्मानित जरुर किया जाना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here