‘गड्ढों’ में फंसी सूबे की सियासत, राजनीतिक आरोपों का दौर जारी

RISHABH PANTक्रिकेटर ऋषभ पंत के कार हादसे के बाद अब उत्तराखंड में सड़कों के गड्ढ़ों को लेकर सियासत शुरु हो गई है। हरीश रावत ने सरकार पर आरोप लगाया है कि बीजेपी सरकार में सड़कें गड्ढे में चली गईं हैं।

दरअसल रविवार को सीएम पु्ष्कर सिंह धामी ने देहरादून के मैक्स अस्पताल में ऋषभ पंत से मुलाकात की थी। इस मुलाकात के बाद जब सीएम धामी बाहर आए तो पत्रकारों के साथ बातचीत में उन्होंने कहा कि उन्हे ऋषभ पंत ने बताया है कि गड्ढे से बचने के चक्कर में हादसा हुआ है।

इस बयान के सामने आने के बाद साफ हो गया कि हादसा गड्ढे को बचाने के चक्कर में ही हुआ। वहीं इस बयान ने अब सरकार के राजनीतिक विरोधियों को भी मौका दे दिया है। हरीश रावत ने मीडिया से बातचीत के दौरान ऋषभ पंत के साथ हुए हादसे का जिक्र करते हुए कहा कि सरकार ने सड़कों को गड्ढे में डाल दिया है। हरीश रावत ने ये भी दावा किया कि उनकी सरकार में जो सड़कें बेहतर हालत में थीं उन सड़कों में भी अब बड़े बड़े गड्ढे हो गए हैं।

आपको बता दें कि ऋषभ पंत के साथ हुए हादसे के बाद से ही हादसे की वजहों को लेकर संशय बना हुआ था। डीजीपी अशोक कुमार ने एक बयान में दावा किया कि हादसा ऋषभ पंत को झपकी आने से हुआ था।

वहीं DDCA के डायरेक्टर श्याम शर्मा ने ऋषभ पंत से मुलाकात के बाद दावा किया कि ऋषभ गड्ढे को बचाने में हुआ था। उनसे भी ऋषभ ने ही ऐसा कहा था।

इसके बाद सीएम धामी ने भी ऋषभ पंत से मुलाकात के बाद दावा किया कि एक्सीडेंट गड्ढे को बचाने में हुआ।

वहीं हादसे के बाद परिवहन विभाग के अधिकारियों और एनएचएआई के अधिकारियों ने भी दुर्घटनास्थल का जाएजा लिया था। इस दौरान पता चला कि जहां हादसा हुआ वहां सड़क की चौड़ाई कम मिली है। इसके साथ ही सड़क किनारे बने रजवाहे से गाड़ी चालकों को बचाने के लिए मिट्टी का ढेर बनाया गया है।

अधिकारियों ने माना कि जहां हादसा हुआ वहां सड़क की गिट्टी उखड़ी हुई थी और इसके चलते तेज गति से आने वाले चालकों को अचानक उछाल मिलती थी। अधिकारियों ने हादसे के बाद वहां पर रिफ्लेक्टर लगा दिए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here