वन विभाग को कोई फर्क नहीं पड़ता…किसी का घर जले या कोई जलकर मरे

नैनीताल: जंगल की आग लगातार खतरनाक होती जा रही है। जंगल की आग से अब आबादी वाले क्षेत्रों को भी खतरा हो गया है। बावजूद वन विभाग कोई कारगर कदम नहीं उठा रहा है। गुरुवार देर रात को नैनीताल के पास जूलीकोट में एक घर जंगल की आग की चपेट में आ गया। जिससे उनके चार मवेशी जलकर मर गए। परिवार को पूरी रात खुले में बितानी पड़ी।

चार जानवर जलकर मरे

जूलीकोट के पास हेडी गांव में जंगल की आग से सोबन सिंह रावत का मकान जल गया। जंगल की आग से सोबन सिंह के चार जानवर जलकर मर गए। घटना की जानकारी वन विभाग के अधिकारियों को दी गई, लेकिन कोई भी मौके पर नहीं पहुंचा। पटवारी गंगाधर पलड़िया की मानें तो मामले की जानकारी उच्चाधिकारियों को दी गई है।

जिम्मेदार अधिकारियों की गंभीरता पर सवाल 

आग से घर जलने के बाद परिवार सड़क पर आ गया है। घर का सारा सामान भी जलकर राख हो गया। उनके पास सिर छुपाने की जगह भी नहीं बची है। पीड़ित परिवार ने आर्थिक ममद की मांग की है। हैरत की बात यह है कि एक तरफ तो पटवारी कह रहे हैं कि मामले की पूरी जानकारी उच्चाधिकारियों को दे दी गई। वहीं, दूसरी तरफ खुद ही कह रहे हैं कि अब तक घटना स्थल पर नहीं गए हैं। इससे जिम्मेदार अधिकारियों की गंभीरता पर भी सवाल खड़े होते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here