लखीमपुर खीरी घटना में एक रिपोर्टर की भी मौत, परिवार का दावा-गोली मारकर की हत्या

लखीमपुर खीरी घटना से पूरे देश भर में बवाल मचा हुआ है। हर ओर किसान आंदोलन कर सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। इस घटना में आठ किसानों की मौत की खबर है। वहीं एक पत्रकार के भी मौत की खबर सामने आई है। बता दें कि हर रविवार की तरह इस बार भी रमन कश्यप असाइनमेंट पर थे। लोकल न्यूज चैनल में कार्यरत रमन उस दिन सुबह ही निघासन में किसानों का प्रदर्शन कवर करने निकले थे लेकिन इसके बाद वह गायब हो गए। आखिरकार रात 10 बजे लखीमपुर खीरी जिला अस्पताल के शवगृह से उनके बारे में खबर आई कि उनकी मौत हो चुकी है।

लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी ने दावा किया था कि चार बीजेपी कार्यकर्ता मारे गए हैं जिसमें उन्होंने रमन कश्यप (32) को भी शामिल कर लिया था। हालांकि रमन के परिवार ने स्पष्ट किया कि वह अपना काम कर रहे थे और मंत्री के बेटे आशीष और उनके साथियों पर हत्या का आरोप लगाया। वह बीजेपी कार्यकर्ता नहीं थे बल्कि पत्रकार थे। उनके परिवार की ओर से अलग से शिकायत दर्ज कराई गई है।
पिता का आरोप-मेरे बेटे की हत्या हुई

शिकायत में पत्रकार रमन के पिता ने लिखा कि मेरा बेटा साधना न्यूज चैनल में रिपोर्टर था। 3 अक्टूबर को वह महाराजा अग्रसेन स्पोर्ट्स ग्राउंड में किसानों का प्रदर्शन कवर करने गया था जहां अजय मिश्रा टेनी और डेप्युटी सीएम केशव प्रसाद मौर्य पहुंचने वाले थे। रमन के पिता ने कहा कि सांसद के बेटे आशीष मिश्रा और पार्टी कार्यकर्ताओं ने उनके बेटे को मार दिया। कहा कि जो लोग घटनास्थल पर मौजूद थे। उन्होंने बताया कि रमन संयुक्त किसान मोर्चा के नेता तजिंदर सिंह विर्क का वीडियो इंटरव्यू कर रहा था, तभी काफिले की एक कार तेजी से उसकी ओर आई। चश्मदीदों ने रमन के पिता को बताया कि रमन ने उस कार के फुटेज भी लिए जो किसानों को रौंद रही थी, जिसकी वजह से मेरे बेटे को गोली मारी गई। फुटेज में कथित तौर पर गोलियों की आवाज भी है।

सीने और दाहिने हाथ पर थे गोलियों के निशान 

रमन के भाई पवन ने बताया कि जब परिवार ने भाई के शव को देखा तो निश्चित रूप से कहा जा सकता था कि उसकी मौत गोली लगने से हुई है। पवन ने बाताया कि उसके कंधे में खरोंच के निशान थे, सिर पर काफी चोट थी और सीने व दाहिने हाथ पर गोलियों के निशान थे।जानकारी मिली है कि अभी रमन की पोस्टमार्टम रिपोर्ट नहीं आई है।  निघासन पुलिस थाने के एसएचओ राम लखन ने बताया कि मृतक के पिता ने जो शिकायत दर्ज कराई है उसमें आशीष मिश्रा और उनके साथियों पर पत्रकार की हत्या का आरोप है। हालांकि यह मामला तिकुनिया इलाके का है इसलिए उसे वहां भेजा जाएगा।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here