पिथौरागढ़ में एक बार फिर प्रकृति का कहर, घास काटने गई लड़कियां गदेरे में बहीं, मौत

पिथौरागढ़ : उत्तराखंड में एक बार फिर बारिश ने कहर बरपा…क्या पहाड़ क्या मैदान…दोनों जगह पर भारी नुकसान हुआ। बीती रात हुई बारिश से जहां देहरादून में सड़कों से लेकर घरों तक में पानी भर गया तो वहीं पहाड़ी इलाकों में कई रास्ते बंद हो गए। कई जगहों पर भूस्खलन हुआ। बात करें पिथौरागढ़ की तो पिथौरागढ़ में एक बार फिर बारिश ने कहर बरपाया। पिथौरागढ़ तहसील के सिमली गांव में घास काटने गई दो युवतियों की गधेरे में बहने से मौत हो गई है। मृतकों की पहचान पूजा 15 वर्ष और अंजलि 16 वर्ष के रुप में हुई जो घास कांटने गई थी। दोनों गदेरे के तेज पानी की चपेट में आ गई और दोनों की मौत हो गई। जानकारी मिली है कि 108 को गांव वालों द्वारा सूचना दी गई और अस्पताल पहुंचाया गया लेकिन 108 के पहुंचने से पहले दोनों की मौत हो गई।

मिली जानकारी के अनुसार पिथौरागढ़ के मुनस्यारी तहसील क्षेत्र में बीती रात 1 बजे से सुबह तक भारी बारिश हुई ठीक देहरादून की तर। रात भर हुई भारी बारिश से रामगंगा नदी उफान पर आ गई। रामगंगा नदी में पिथौरागढ़ और बागेश्वर जिलों को जोड़ने वाली ट्राली डूब गई है। कवीटी के निकट रांथी गाव में भारी भूस्खलन हुआ है। एक मकान ध्वस्त हो गया है। पांच परिवार खतरे में आ चुके हैं लेकिन सभी परिवारों को सुरक्षित स्थान पर रखा गया है। थल- मुनस्यारी मार्ग थल के गोचर, रिंगुनिया, टिमतिया पुल के पाश मलबा आने से बन्द है। मार्ग पांचवें दिन भी नहीं खुल सका है। मुनस्यारी तहसील का शेष जगत से संपर्क भंग है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here