मेरठ का मूल निवासी, हरिद्वार का बनाया प्रमाण पत्र, पत्नी ने खोल दी पोल

रुड़की : मेरठ का मूल निवासी फर्जी प्रमाण पत्रों के दम पर उत्तराखंड में मास्टर बन गया। उसने फर्जी दस्तावेजों के आधार पर हिरद्वार से मूल निवासी होने का प्रमाणपत्र बनाकर पेश कर दिया। उसको नौकरी भी मिल गई, लेकिन उसको कहां पता था कि पत्नी को धोखा देना और उससे झगड़ा करना महंगा पड़ जाएगा। पत्नी ने उसकी पूरी पोल पट्टी खोलकर रख दी।

पत्नी ने पति के फर्जी प्रमाणपत्रों केे आधार पर नौकरी हासिल करने की शिकायत एसआईटी से की थी। जांच में आरोपों की पुष्टि भी हो गई है। मामले में एसआईअी ने आरोपी शिक्षक के खिलाफ कार्रवाई के आदेश दिए हैं। जिला शिक्षाधिकारी बेसिक ब्रह्मपाल सिंह सैनी ने बताया कि झबरेड़ा क्षेत्र के एक राजकीय प्राथमिक विद्यालय में तैनात शिक्षक की फर्जी प्रमाणपत्रों की शिकायत एसआईटी को की गई थी।

शिकायत आरोपी शिक्षक की पत्नी ने की थी। उन दोनों के बीच किसी बात को लेकर मतभेद चल रहे थे। गुस्साई पत्नी ने पति की पूरी पोल खोल दी। जांच में आरोप सही पाये गए। इसमें पता चला है कि आरोपी शिक्षक ने मूल निवासी प्रमाणपत्र हरिद्वार जिले का दर्शाया, जबकि जांच में वह मेरठ के रहने निकला। एसआईटी की जांच रिपोर्ट विभागीय अधिकारियों को कार्रवाई के लिए भेज दी गई है। फर्जी शिक्षक से जवाब मांगा गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here