अफ्रीकी देश गिनी में हल्द्वानी के सौरभ सहित 16 भारतीयों से टूटा संपर्क, परिजनों ने जताई चिंता

indian
14 अगस्त से अफ्रीकी देश गिनी में फंसे उत्तराखंड के दो युवकों सहित 16 भारतीय अपनी रिहाई की मांग को लेकर सोशल मीडिया में वीडियो वायरल कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से रिहाई की गुहार लगा रहे थे। ऐसे में अब हल्द्वानी निवासी सौरभ स्वार सहित देहरादून निवासी कैप्टन अनुज मेहता से अब परिजनों का संपर्क टूट गया है, जिसके बाद अब परिजनों ने चिंता जाहिर की है।

रिहाई के लिए सोशल मीडिया के माध्यम से लगाई गुहार

हल्द्वानी के गौलापार निवासी शीप में फंसे सौरभ स्वार सहित अन्य साथियों ने अपनी रिहाई के लिए सोशल मीडिया के माध्यम से गुहार लगाई थी, गिनी में फंसे सभी भारतीयों ने वीडियो वायरल कर कहा था कि उनकी जल्द रिहाई की जाए नहीं तो अब उनको नाइजीरिया नेवी अपने हवाले लेने जा रही है और उन्होंने नाइजीरिया से खुद को खतरा बताया है। उनका कहना है कि गिनी नौसेना नाविकों को नाइजीरिया ले जा रही है।

कैदी बनाने का है डर

गुरुवार से उत्तराखंड के गौलापार निवासी नाविक सौरभ का फोन रिसीव नहीं हो सका। जिसके कारण अब उनके परिजनों में भी डर और घबराहट है। सौरभ ने परिजनों को बताया था की गिनी में उन्हें और उनके साथियों को जहाज के अंदर कैद करके रखा गया है। गिनी नौसेना अब उन्हें नाइजेरिया के हवाले करने जा रही है जिससे खतरा बना हुआ है। बुधवार की रात 15 भारतीय नाविकों को गिनी नौसेना ने अपने वार शिप में शिफ्ट कर दिया था और नाइजीरिया चलने को कहा। सभी भारतीयों ने इंटरनेट मीडिया से शेयर की गई सभी पोस्टों को भी हटा दिया है। हल्द्वानी के गौलापार निवासी सौरभ स्वार व देहरादून के तनुज मेहता ओएसएम फ्लीट मैनेजमेंट इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के कर्मचारी हैं और एमटी हीरोट ईडन शिप में काम करते हैं। सौरभ ने बताया था कि उनकी कंपनी का जहाज सभी देशों में जाता है और कच्चे तेल का ट्रांसपोर्टेशन करता है।

आठ अगस्त पहुंचे थे नाइजीरिया

आठ अगस्त को उनका जहाज 16 भारतीय सहित 26 नाविकों को लेकर कच्चा तेल भरने के लिए नाइजीरिया के एकेपीओ टर्मिनल पहुंचा था लेकिन तेल भरने से पहले नाइजीरिया के इशारे पर 14 अगस्त को अफ्रीकी देश गिनी की नौसेना ने उनके जहाज को कब्जे में ले लिया। नाइजीरिया ने शिप पर तेल चोरी का आरोप लगाया है। चार महीने बाद भी गिनी नौसेना ने उनको हिरासत में ले रखा है। सौरभ के परिजनों से अब उनका संपर्क नहीं हो रहा है ऐसे में परिवार वाले भी मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से सौरभ की रिहाई के लिए पत्र लिख चुके हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here