उत्तरकाशी के लाल के हाथ देश सुरक्षा की कमान, नौसेना में बने डिप्टी कमांडेंट

उत्तरकाशी : उत्तराखंडी किसी भी क्षेत्र में पीछे नहीं है। आज देश की बागडोर कई उत्तराखंडी और उत्तराखंड के युवाओं के हाथ में है। उत्तराखंड के अधिकतर युवा हाथ में रायफल लिए देश की रक्षा कर रहे हैं। वहीँ इसके लिए तैयार हुआ है उत्तरकाशी का नौजवान अंकित बिजल्वाण. जी हां अंकित का नौसेना में डिप्टी कमांडेंट पद पर पदोन्नति हुई है. बता दें कि अंकित उत्तरकाशी, पुरोला तहसील के ग्राम-पोरा निवासी है। इस खबर से अंकित के परिवार समेत गांव में खुशी का माहौल है।

अंकित 2013 में नौसेना में सहायक कमाण्डेन्ट के तौर पर हुए थे भर्ती

मिली जानकारी के अनुसार अंकित बिजल्वाण का चयन 2013 में नौसेना में सहायक कमाण्डेन्ट के तौर पर हुआ था. ट्रेनिंग भारतीय नौसेना एकेडमी एझिमला केरल से पूरी की। अंकित ने समुद्री परीक्षण के लिए विभिन्न स्थानों जैसे कोची, बिसाखापट्टनम, चेन्नई, अंडमान निकोबार,दुबई, ओमान आदि पर काम किया। वहीं दो साल तक पश्चिम बंगाल में भारत से सटी बांग्लादेशी समुद्री सीमाओं की सुरक्षा की. अंकित ने कई बार सर्च एवं रेस्क्यू मिशन में भाग लिया और देश सेवा में अग्रणी रहे. औऱ अब 30 दिसंबर 2019 को उनकी पदोन्नित हुई और वो सहायक कमान्डेंट से डिप्टी कमांडेंट बने।

प्रसिद्ध लेखक और साहित्यकार ख़िलानन्द बिजल्वाण के नाती

बता दें कि अंकित उत्तरकाशी जनपद के रवांई क्षेत्र में प्रसिद्ध लेखक और साहित्यकार ख़िलानन्द बिजल्वाण के नाती हैं। अंकित के पिता सहकारी बैंक मैनेजर के पद से सेवानिवृत्त हैं जबकि मां गृहणी है।

उत्तरकाशी से की स्कूलिंग

अंकित ने उत्तरकाशी के एम डी एस स्कूल से हाईस्कूल की और इण्टरमीडिएट की पढ़ाई सेंटर स्कूल उत्तरकाशी से की। वहीं अंकित ने पंतनगर विश्वविद्यालय से बीटेक किया और सरकारी नौकरी की तैयारी में जुट गया। वर्तमान में इनका चयन भारतीय नौ सेना में डिप्टी कमांडेंट के पद पर हुआ है जिससे परिवार समेत पूरे क्षेत्र-गांव में खुशी का माहौल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here