उत्तराखंड : कांग्रेसी कार्यकर्ता ने महिला दारोगा को कहा- उंगली मत दिखा, क्या करेगी तू…

कोटद्वार : मालवीय उद्यान में बुधवार शाम साढ़े चार बजे जैसे ही मुख्यमंत्री का उद्बोधन शुरू हुआ। सभास्थल के समीप एक कांप्लेक्स के दो मंजिले भवन पर चढ़ी महिला कांग्रेसियों ने मुख्यमंत्री को काले झंडे दिखाने शुरू कर दिए। कांग्रेसियों ने मुख्यमंत्री के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। पुलिस ने कांग्रेस की प्रदेश सचिव कृष्णा बहुगुणा समेत चार महिला प्रदर्शनकारियों को हिरासत में ले लिया।

महिला पुलिसकर्मी के साथ अभद्रता

इस दौरान महिला कार्यकर्ताओ की महिला पुलिसकर्मियों से नोकझोंक हुई. कांग्रेसी कार्यकर्ता ने महिला पुलिसकर्मियों को जमकर सुनाया और जमकर धक्कामुक्की हुई. कार्यकर्ताओं ने महिला पुलिसकर्मी के साथ अभद्रता की.

लेकिन गलती पुलिस की भी

लेकिन पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल तब उठते हैं कि जब महिलाएं छत पर चढ़कर काले झंडे दिखा रहे थे तो उनकी गिरफ्तारी के लिए एक भी महिला पुलिसकर्मी वहां मौजूद नहीं दिखी. जबकि नियम है कि महिलाओं को महिला पुलिस कर्मी ही गिरफ्तार कर सकती है.

जिन योजनाओं का सीएम शिलान्यास कर रहे हैं उनका शिलान्यास सीएम हरीश रावत कर चुके हैं-कांग्रेस

इस दौरान कांग्रेसियों का कहना है कि जिन योजनाओं का सीएम शिलान्यास कर रहे हैं उनका शिलान्यास 2016 में कांग्रेस मुख्यमंत्री हरीश रावत कर चुके हैं। सरकार दोबारा शिलान्यास कर क्षेत्र की जनता को गुमराह कर रही है। महिला कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने थाने में भी जमकर हंगामा काटा। इस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं और महिला पुलिस कर्मियों के बीच जमकर झड़प हुई। कांग्रेस कार्यकर्ताओं का आरोप है कि पुलिस उन्हें कार्यालय के बाहर भी नहीं बैठने दे रही थी, जिसका उन्होंने विरोध किया। आरोप लगाया कि पुलिस ने उनके साथ अभद्रता की। पुलिस ने करीब ढाई घंटे तक इन कार्यकर्ताओं को जबरन थाने में बिठाए रखा। देर शाम उनके खिलाफ शांतिभंग का चालान काटकर रिहा किया गया।

आपको बता दें काले झंडे दिखाने की योजना पुलिस और खुफिया विभाग को भी नहीं लग सकी। आननफानन में पुलिस ने कांग्रेस की प्रदेश सचिव कृष्णा बहुगुणा, नगर महिला कांग्रेस अध्यक्ष शकुंतला चौहान, हर्षिता, ऋतु चौधरी को हिरासत में ले लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here