उत्तराखंड : करोड़ों की ठगी करने वाली किट्टी संचालक दंपत्ति अपने बच्चों समेत पुणे से गिरफ्तार

देहरादून : देहरादून में करोड़ों की ठगी करने वाले किट्टी संचालक दंपत्ति को पुलिस ने उनके दो नाबालिग बच्चो समेत पुणे, महाराष्ट्र से गिरफ्तार करने में सफलता पाई.

24 अप्रैल 2019 को कइयों के पैसे ठग कर फरार

दरअसल 28 अप्रैल 2019 को नीलम कपूर पत्नी ज्योति कपूर नि0 साकेत कॉलोनी राजपुर रोड, देहरादून ने चौकी धारा पर लिखित सूचना दी कि भावना शर्मा नाम की किट्टी संचालिका महिला साल 2016 से ओम साई राम के नाम से देहरादून शहर में कई किट्टियो का आयोजन कर रही थी, और काफी शहरवासियों का विश्वास जीत कर उनसे पैसे लेकर 24 अप्रैल 2019 से फरार हो गयी है, इन किट्टिया के आयोजन में उनका सहयोग उनके पति अजय शर्मा उनकी दो पुत्रियां कर रही थी. यह ओंकार रोड पर साई मेहर बुटीक (glitz glam) के नाम से एक दुकान भी चलते थे। उनकी किट्टियों का आयोजन शहर के विभिन्न रेस्टोरेंट होटल्स जिनमे ऐश्लेहाल स्थित रॉयल रेस्तरां, आंगन रेस्तरां, राजपुर रोड स्थित होटल अम्बेडकर आदि में होता था।

कई लोगों से ठगे करोड़ों रुपये

शिकायतकर्ता महिला ने पुलिस को बताया था कि इन किट्टियों में उसके अलावा सैकडों शहर वासी शामिल थे और सबने अपनी मेहनत से कमाए हुए लाखों रुपये भावना शर्मा और उसके परिवार के पास जमा कराए हुए थे जिसमें मेरे संज्ञान में करीब 18-20 लोग हैं जिनका करीब 1 करोड़ रुपया इनके द्वारा धोखधड़ी से हड़प लिया है. बताया कि इसके अलावा और भी बहुत से लोगों से भी पैसा लेकर परिवार सहित फरार हो गयी है। इस सूचना पर उचित धाराओं में अभियोग पंजीकृत किया गया. वर्तमान में किट्टी से संबंधित अन्य कई मामले आने और उनके संचालकों के मोटा रुपया बनाकर भाग जाने के मामले आये दिन संज्ञान में आने पर उक्त के संबंध में एसएसपी को अवगत कराया गया जिसको गंभीरता से लेते हुए एसएसपी ने टीम गठित कर जल्द गिरफ्तारी का दबाव बनाया.

कई लोगों से की गई पूछताछ, दोनों बेटियों को संबंधियों को सौंपा गया

जिसके बाद टीम गठित कई कई लोगों से पूछताछ की गई औऱ किट्टी से संबंधित कार्ड भी लिए किये गए. वहीं जुलाई को सूत्रों से जानकारी मिली कि ये सभी पुणे महाराष्ट्र में अपने किसी रिश्तेदार के यहाँ छुपे हुए हैं, इस सूचना को क्रॉस वेरिफाई कर उप निरीक्षक दीपक धारीवाल के नेतृत्व में एक टीम को पुणे महाराष्ट्र के लिए रवाना की गई. जिस पर कल 11 जुलाई को उक्त सभी को पुणे महाराष्ट्र से गिरफ्तार करने में सफलता पाई. इनकी दोनों बेटियां जो कि नाबालिग हैं को सादे वस्त्रों में महिला कांस्टेबल के संरक्षण में रखकर दून लाया गया. जिसके बाद विधि विवादित दोनों किशोरियों को उनके संबंधियों के सुपुर्द किया गया और दोनों दंपत्ति अभियुक्तो को आज मान0 न्यायालय पेश कर जिला कारागार भेज दिया गया है।

नाम पता अभियुक्त गण

  1. भावना शर्मा पत्नी अजय शर्मा नि0 ओंकार रोड कोतवाली नगर, देहरादून।
  2. अजय शर्मा पुत्र स्व0 ऋषिकुमार शर्मा नि0 उपरोक्त।
  3. विधि विवादित दो नाबालिक किशोरियां

किट्टी संचालन में होता रहा लाखों का घाटा, नहीं दे पाए किसी के पैसे-भावना

पूछताछ पर आरोपी भावना ने बताया कि यह सैनी परिवार से है और रुड़की का मायका हैं. अजय शर्मा करीब 20 वर्ष पहले देहरादून में शादी हुई थी. करीब 9 वर्ष से यह अपनी दीदी के साथ ओंकार रोड चक्खु मोहल्ला में रहती थी, पति अजय रीठा मंडी में इलेक्ट्रॉनिक की दुकान करता था. अपना घर नही बनाया है, करीब 5 वर्षो से किट्टी का काम कर रही थी. प्रति माह करीब 5 लाख रुपये का घाटा होता रहा, जिस कारण लोगों के पैसे धीरे वापस नहीं हो पाए और देनदारी बढ़ती रही. आरोपी भावना ने बताया कि करीब 6 महीने से नुकसान इतना हुआ कि किसी का भी पैसा वापस नही हो पाया तो, लोग धीरे धीरे ज्यादा दबाब डालने लगे, जिस पर और कोई चारा न होने पर 24 अप्रैल की रात को परिवार सहित फरार हो गयी. जिसके बाद वो ट्रैन से सीधा शिरडी पहुँचे और शिरडी से पुणे सिंहगढ़ थाना क्षेत्र अंतर्गत नरे रोड पर इनके परिचितों ने रेंट पर दिलाये फ्लैट में रहे थे। भावना ने बताया कि करीब 500 लोग किट्टी के माध्यम से इनसे जुड़े थे जिनका करीब करोड़ो रूपये देना था। कई ओर जानकारी भावना ने दी जिसकी जांच पुलिसकर रही है.

उत्तराखंड पुलिस ने की जनता से अपील

उत्तराखंड दून पुलिस जनता से पुनः अपील करती है, कि अपनी मेहनत की गाढ़ी कमाई/बचत के पैसे को किसी भी किट्टी/ कमेटी में न लगाएं, पैसे डूबने की पूर्ण संभावना से इनकार नही किया जा सकता है। कोतवाली नगर पुलिस द्वारा किट्टी/कमेटी संचालकों की गिरफ्तारी का अभियान लगतार जारी है।

पुलिस टीम

शेखर सुयाल सीओ सिटी देहरादून

प्रभारी निरीक्षक एसएस नेगी

व. उप. निरीक्षक अशोक राठौड़

उप. निरीक्षक दीपक धारीवाल

कानि. लोकेंद्र उनियाल

कानि. अरशद अली

म. कानि. माधुरी

कानि. प्रमोद sog तकनीकी सहायक।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here