वेब मीडिया के पत्रकारों को समय रहते अपने लिए आचार संहिता बनानी होगी

देहरादून: न्यूज़ पोर्टल संचालित करने वाले वेब मीडिया के पत्रकारों की एक अहम बैठक हुई, जिसमें न्यूज़ पोर्टलों के भविष्य के संबंध में चिंतन मनन किया गया। प वक्ताओं ने कहा कि पोर्टल को को सरकार कोई भी सुविधा मुहैया नहीं करा रही वह चिंता का विषय है। यह बैठक लगभग तीन घंटे चली।  इस दौरान वेब मीडिया के पत्रकारों ने अपनी जिम्मेदारी और उत्तराखंड के पाठकों द्वारा मिली ताकत के बारे में गहन चिंतन मनन किया।

बैठक में तय किया गया कि वेब मीडिया के पत्रकारों को समय रहते अपने लिए आचार संहिता बनानी होगी‎ए। ताकि ज्यादा व्यवस्थित और अनुशासित तरीके से उत्तराखंड के हितों की रक्षा के लिए अपनी भूमिका निभाई जा सके। इस बात पर भी चर्चा की गयी कि आज जो भी व्यक्ति न्यूज़ पोर्टल संचालित कर रहे हैं, उनका कोई रिकॉर्ड नहीं है। इसलिए इस बात की आवश्यकता महसूस की गई कि न्यूज़ पोर्टल बनाने के लिए पहले या बाद में राज्य सूचना विभाग अथवा एक नियामक तंत्र के अंतर्गत पंजीकरण अनिवार्य किया जाना चाहिए।

साथ ही राज्य सूचना विभाग से विज्ञापनों के लिए एंपैनलमेंट के तौर तरीकों में भी सुधार किए जाने की आवश्यकता महसूस की गई। बता दें कि इस दौरान बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि उत्तराखंड के व्यापक जनहित के मुद्दों पर वेब मीडिया के सभी पत्रकार इस बात पर पहले रायशुमारी कर लेंगे कि उनका किसी मुद्दे पर क्या दृष्टिकोण है और सभी एक ही दृष्टिकोण से खबरें प्रकाशित करेंगे। ताकि उत्तराखंड के हितों के लिए अपनी भूमिका व्यापक रूप से निभाई जा सके। वही पत्रकारों ने इस बात को भी महसूस किया और गंभीरता से इस बात पर चर्चा की कि वे किसी भी घटना के प्रति जिस दृष्टिकोण से रिपोर्टिंग करते हैं। और फिर दूसरे दिन या शाम को चैनल और अखबार उस दृष्टिकोण की उपेक्षा नहीं कर सकते। इसलिए वेब मीडिया की भूमिका और भी अधिक महत्वपूर्ण हो जाती है।बै

बैठक में वेब मीडिया के पत्रकारों को मान्यता प्रदान करने के विषय में भी परिचर्चा की गई। गौरतलब है उत्तराखंड में सबसे पहले वेब मीडिया के लिए विज्ञापन नियमावली बनाई गई है। इसके लिए एक दशक से विभिन्न सरकारों के साथ कई दौर की बैठकों का वाकिया भी याद किया गया। यही कारण है कि आज उत्तराखंड में हरीश रावत सरकार में न्यूज़ पोर्टल के लिए विज्ञापन मान्यता नियमावली बनाई गई।

बैठक में वेब मीडिया के पत्रकारों ने इस बात पर एकजुट होकर सहमति जताई कि वे उत्तराखंड के हितों के लिए एकजुट होकर अपना योगदान देंगे और चाहे सरकार किसी भी दल की क्यों न हो। वे उत्तराखंड के हितों के लिए प्रतिबद्ध रहेंगे । सभी ने शोहार्द पूर्ण वातावरण मैं अपनी अपनी बात रखी। और किस तरह से उत्तराखंड में न्यूज़ पोर्टल से जुड़े लोग एकजुट होकर कार्य करें इस पर बल दिया।

इस बैठक के साथ आज से सदस्यता अभियान भी शुरू हो गया है। बड़ी संख्या में साथियों ने शिव प्रसाद सेमवाल और विकास गर्ग जी के पास 100.100 रुपये सदस्यता शुल्क भी जमा कराया। उम्मीद है जल्द उत्तराखंड न्यूज़ पोर्टल से जुड़े लोगों की अपनी कार्यकारिणी अस्तित्व में आ जाएगी। जो साथी बैठक में पहुंचे उनका हार्दिक आभार धन्यवाद जो किसी कारण से नहीं पहुंच पाए वह अगली बैठक में जरूर पहुंचे। और संगठन को मजबूत बनाने में अपना योगदान दें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here