इस योजना के हिसाब से चले तो रिटायरमेंट पर मिलेंगे 2 करोड़, जानें कैसे ?

सरकारी नौकरी से रिटायर लोग ज्यादातर अपनी कमाई से की गई बचत पर भी रिटायरमेंट के बाद जिंदगी बिताते हैं। कई बार ऐसा होता है कि लोग रिटायरमेंट के वक्त की प्लानिंग पहले से नहीं करते हैं। ऐसे में लोग रिटायर होते-होते अपनी जमा पूंजी का काफी हिस्सा खर्च कर सकते हैं। देश में रिटायरमेंट की उम्र 60-65 साल है। रिटारमेंट प्लान करने वाले जानकारों की मानें तो अगर आपी उम्र 40 साल है तो आपको अगले 20 सालों की संभावित महंगाई के हिसाब से प्लान तैयार करना चाहिए, जिससे रिटायरमेंट के बाद भी आप आसानी से अपना जीवन-यापन अच्छे से कर सकें। बेहतर रिटायरमेंट प्लान के लिए कई बातों का ध्यान रखना होगा।

बचत की योजना बनाएं
अगर आपकी मासिक आय 40 हजार रुपये है। इसमें से 10,000 रुपये किराया देते हैं। इसके अलावा घर खर्च में भी 10,000 रुपये खर्च करते हैं। एक बच्चे की पढ़ाई पर 5000 रुपये खर्च होते हैं। आफिस जाने और दूसरे खर्च पर भी करीब 10 हजार रुपये खर्च होते हैं। ऐसे में आपके पास 5000 रुपये बचते हैं। अगर इस रकम को आप एसआईपी के जरिये म्यूचुअल फंड में रिटायरमेंट तक यानी 20 साल तक निवेश करते हैं तो आप आसानी से 2.62 करोड़ रुपये जमा कर लेंगे। निवेश पर रिटर्न की गणना यहां 10 प्रतिशत की दर से की गई है। यह रकम इससे कहीं अधिक हो सकती है क्योंकि लंबी अवधि पर आपको इससे बेहतर रिटर्न मिल सकता है।

बढ़ जाएगा मासिक खर्च
जिस तेजी से महंगाई में इजाफा हो रहा है, आने वाले दिनों में प्रत्येक महीने का खर्च भी बढ़ना है। नौकरी है और अच्छी सैलरी है तो इसको लेकर ज्यादा चिंता नहीं रहती। रिटायरमेंट के बाद खर्च चलाना मुश्किल हो जाता है। अगर महंगाई दर करीब 6 फीसद रहती है, तो अगले 25 साल बाद मौजूदा खर्च दोगुने से भी ज्यादा हो जाएगा। यानी अगर आप अभी 25 हजार खर्च करते हैं तो 25 साल बाद यह 75 हजार रुपये होगा।

जल्दी निवेश और प्लानिंग
अगर रिटायरमेंट प्लानिंग के लिए निवेश शुरू नहीं किया है तो देरी ना करें। जल्दी निवेश शुरू करने पर आसानी से रिटायरमेंट के लिए फंड जमा कर पाएंगे। आपको निवेश के लिए बड़ी रकम की भी जरूरत नहीं होगी। आप आसानी से मनचाही रकम योजना बनाकर जुटा लेंगे। साथ ही इन बातों इन पांच चरणों में तैयार करें प्लान अपने लक्ष्य को तय करें। वर्तमान आर्थिक स्थिति का मूल्यांकन करें, अपनी जोखिम क्षमता को पहचानें, निवेश के विकल्पों को जानें, समय-समय पर पोर्टफोलियों को बदलें।

इसलिए जरूरी प्लान बनान
रिटायरमेंट के बाद आपकी जिंदगी उत्साह से भरी हुई और शांतिपूर्ण होनी चाहिए। अगर आपकी रिटायरमेंट प्लानिंग सही नहीं हो तो आप इन सुनहरे पलों को ठीक से जी नहीं पाएंगे। इसलिए जरूरी है कि आप अपने जीवन के कामकाजी पलों में ही रिटायरमेंट प्लानिंग के लिए थोड़ा समय निकालें। ऊपर बताई गई बातें का पालन करने पर आपका रिटायरमेंट के बाद का जीवन निश्चित तौर पर सुकून के साथ कटेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here