मातम में बदली होली : बेटे की शहादत की खबर से घर में कोहराम, 9 महीने का मासूम बेखबर

होली के दिन जहां पूरी दुनिया रंगों की मस्ती में डूबी हुई थी तो वहीं दूसरी ओर सीमा पर देश का जवान शहीद हो गया। जी हां बता दें कि दक्षिण कश्मीर के शोपियां के वनगाम क्षेत्र में बागपत जिले का जवान पिंकू दांगी आतंकियों से लोहा लेते हुए शहीद हो गए। शहीद जवान बागपत के लुहारी गांव का निवासी थे। वहीं बता दें कि आंतकी मुठभेड़ में दो आतंकी भी सुरक्षाबलों ने मार गिए। इस मुठभेड़ में 1 जवान घायल हो गया था जिसका उपचार चल रहा है। वहीं बेटे की शहादत की खबर सुनते ही परिवार में कोहराम मच गया। गांव में शोक की लहर दौड़ गई। होली के दिन बेटे की शहादत की खबर से परिवार में सन्नाटा पसर गया।

मिली जानकारी के अनुसार शहीद जवान पिंकु कुमार का जन्म 1983 में हुआ था। 2001 में सेना में भर्ती हुए थे। जानकारी मिली है कि पिंकु कुमार एक ऑपरेशन के तहत आंतकियों की तलाश में गए हुए थे। इनके साथ और भी जवान थे। एक तरफ शहीद का परिवार होली पूजन की तैयारियों में बिजी था तो वहीं बेटे की शहादत की खबर ने सबको झकझोर कर रख दिया। रंगों का त्यौहार फीका पड़ गया। परिवार में दुखों का पहाड़ टूट पड़ा।

जानकारी मिली है कि मुठभेड़ में पिंकु कुमार को गोली लगी थी। जिन्हें उपचार के लिए अस्पताल ले जाया गया जहां उन्होंने दम तोड़ दिया। सेना ने इसकी खबर परिवार को दी तो परिवार में कोहराम मच गया। जानकारी मिली है कि शहीद जवान  का एक 9 महीने का बेटा और दो बेटियां हैं। बड़ी बेटी आठ साल की तो छोटी बेटी 5 साल की है। पत्नी कविता का रो-रोकर हाल बेहाल है। वहीं इनके पिता जबर सिंह कहते हैं कि बेटे की शहादत पर उन्हें गर्व है। शहीद जवान के बड़े भाई मनोज गांव में ही खेती करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here