लैंसडाउन विधानसभा में हरक का प्रचार, विधायक से तकरार, क्या यहां से चुनाव लड़ने के इच्छुक?

कोटद्वार : अपने बयानों को लेकर सुर्खियों में रहने वाले कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत की एक बार फिर से चर्चाएं तेज हो गई है। वो भी टिकट की मांग को लेकर। हरक सिंह रावत कभी त्रिवेंद्र रावत पर वार करने को लेकर सुर्खियों में आए तो कभी मेडिकल कॉलेज की मांग के लिए अपनी इस्तीफे की धमकी को लेकर को कभी लैंसडाउन विधायक पर वार करने को लेकर। हाल ही में उनकी लैंसडाउन विधायक के साथ तकरार भी खुलकर सामने आई। दोनों ने एक दूसरे के खिलाफ मोर्चा खोला। वहीं अब इन दिनों हरक सिंह रावत लैंसडाउन विधानसभा में सक्रिय हैं। बीते दिन ही वो वहां पहुंचे थे औऱ चुनाव प्रसार प्रसार में जुटे रहे। इससे कहा जा रहा है कि क्या हरक कोटद्वार की जगह किसी और से चुनाव लड़ेंगे या अपनी पुत्रवधु को चुनाव के मैदान में उतारेंगे।

बता दें कि हरक सिंह रावत ने गुरुवार को प्रदेश चुनाव प्रभारी प्रल्हाद जोशी से भेंट की। माना जा रहा है कि हरक ने इस दौरान आगामी विधानसभा चुनाव में अपनी दावेदारी और मनपसंद सीट को लेकर अपनी बात चुनाव प्रभारी के समक्ष रखी है। उन्होंने इससे पहले दिल्ली का भी रुख किया। इसको लेकर कहा जा रहा है कि हरक ने दिल्ली जाकर भी अपनी इच्छा जाहिर की है।

हरक सिंह रावत मीडिया के सामने भी बता चुके हैं कि अगर वो कोटद्वार से चुनाव नहीं लड़े तो वो यमकेश्वर, लैंसडाउन, केदारनाथ औऱ डोईवाला से चुनाव लड़ने के इच्छुक हैं। खबर ये भी है कि वो इस बार अपनी पुत्रवधू अनुकृति गुसाईं को चुनाव टिकट दिलाने के जद्दोजहद में हैं. उनकी बहू इन दिनों लैंसडौन क्षेत्र में सक्रिय हैं, जो विधायक महंत दिलीप का चुनाव क्षेत्र है। ऐसे में समझा जा रहा है कि हरक उनके लिए लैंसडौन सीट से टिकट की पैरवी भाजपा नेतृत्व से कर रहे हैं। गुरुवार को चुनाव प्रभारी से उनकी मुलाकात को भी इसी कड़ी से जोड़कर देखा जा रहा है। इसके अलावा सूत्रों का यह भी कहना है कि हरक सिंह रावत इस बार कोटद्वार विधानसभा सीट के बजाय किसी अन्य सीट से चुनाव मैदान में उतरना चाहते हैं।

देखने वाली बात होगी कि क्या हाईकमान और संगठन हरक सिंह रावत को मनमर्जी सीट से चुनाव लड़ने का टिकट देता है या नहीं. या फिर हरक फिर से नाराज होंगे या पार्टी उन्हें खुश करेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here