शाह ने ललकारा, हरदा ने भी दहाड़ा, स्वीकार की चुनौती, बोले-मैं अकेला काफी

देहरादून : आज शनिवार को गृह मंत्री अमित शाह उत्तराखंड में चुनावी बिगुल फूंक गए। इसी के साथ अमित शाह मुख्यमंत्री घसियारी कल्याण योजना का भी शुभारंभ कर गए। सरकार की इस योजना को हरदा ने महिला का अपमान करना बताया और सरकार पर हमला किया। इसी के साथ अमित शाह सीएम धामी की जमकर तारीफ भी कर गए। इतना ही नहीं गृह मंत्री अमित शाह उत्तराखंड की जनता से भाजपा को एक और मौका देने की अपील भी की। अमित शाह ने कहा कि युवा सीएम धामी अच्छा काम कर रहे हैं और आगे भी उत्तराखंड का विकास सीएम धामी करेंगे इसलिए उन्हें एक और मौका दिया जाए।

हरदा ने की अमित शाह की चुनौती स्वीकार

हरीश रावत ने शाम को मीडिया से रुबरु हुए और अमित शाह के हर वार पर पलटवार किया। अमित शाह की चुनौती को हरीश रावत ने स्वीकार किया और अमित शाह को खुली बहस के लिए बुलाया। हरीश रावत ने कहा कि अमित शाह जहां भी डिबेट के लिए उन्हें बुलाएंगे वो अकेले पहुंच जाएंगे। वार करते हुए कहा कि वो अकेले अमित शाह पर भारी पड़ेंगे। साथ ही हरीश रावत ने तंज कसते हुए कहा कि अमित शाह की चाहत हरीश रावत। जुम्मे की नमाज पर बोलते हुए हरीश रावत ने कहा कि राज्य और केंद्र सरकार नोटिफिकेशन ढूंढ के दिखा दे।

हरदा ने किया शाह के डेनिस वाले बयान पर पलटवार

हरीश रावत ने शाम को मीडिया से रुबरु हुए और अमित शाह के हर वार पर पलटवार किया। हरीश रावत ने अमित शाह के डेनिस शराब वाले बयान पर पलटवार कते हुए कहा कि आज भी सरकारी स्टोरों में डेनिस बिक रही है. हरीश रावत ने कहा कि  केंद्रीय गृह मंत्री उत्तराखंड में सिर्फ झूठ बोलने आए थे इससे ज्यादा कुछ नहीं। लिहाजा अमित शाह का भाषण भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ ही उत्तराखंड की जनता को भी निराश करके गया। हरदा ने कहा कि आपदा में राज्य सरकार द्वारा बिना कुछ किए ही अमित शाह ने बीते दिन मुख्यमंत्री की पीठ थपथपाई थी।

घसियारी योजना को बताया महिलाओं का अपमान

वहीं गृह मंत्री अमित शाह के देहरादून से हरिद्वार जाने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने प्रेसवार्ता की और सरकार पर जमकर हमला किया। इतना ही नहीं हरीश रावत ने उत्तराखंड सरकार की घसियारी योजना को महिलाओं का अपमान करार दिया। हरीश रावत ने मीडिया से रुबरु होते हुए मुख्यमंत्री घस्यारी कल्याण योजना के नाम पर सवाल उठाये।

हरदा ने की सरकार के कदम की निंदा

पूर्व सीएम हरीश रावत ने सरकार की योजना पर हमला करते हुए कहा कि जब नारी नाम बढ़ा रही है तो राज्य सरकार उन्हें घस्यारी क्यों कह रही है। हरीश रावत ने सरकार के इस कदम की निंदा की। हरीश रावत ने कहा कि इस योजना के जरिए सरकार ने उत्तराखंड की नारी शक्ति का अपमान किया है।

महिलाओं के कामों के आधार पर उनका संबोधन नहीं दिया जाता-हरीश रावत

हरीश रावत ने कहा कि प्रदेश की महिलाएं अपने घर में तमाम कामों के साथ ही खेत मे काम करती हैं लेकिन महिलाओं के कामों के आधार पर उनका संबोधन नहीं दिया जाता है। लिहाजा घसियारी योजना नाम रखना महिला बहनों का अपमान है। हरीश रावत ने कांग्रेस समेत अन्य दलों और बुद्ध जीवो से अनुरोध किया कि वह भी आगे आकर इसकी निंदा करें। हरीश रावत ने कहा कि अगर अमित शाह ने उन्हें डिबेट के लिए चुनौती दी है तो यह हरीश रावत के लिए सौभाग्य है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here