5 साल की मासूम को निवाला बनाने वाला तेंदुआ पिंजरे में कैद, जारी हुआ था ढेर करने का आदेश

नैनीताल से बड़ी खबर है. बता दें कि बीते दिनों समीपवर्ती चोपड़ा गांव के दांगड़ तोक में 5 साल की मासूम को तेंदुए ने निवाला बनाया था। बच्ची के परिजनों का रो रोकर बुरा हाल है। मां बार बार बच्ची को याद कर रो रही है। वहीं इस मामले में बड़ा अपडेट ये है कि बच्ची को निवाला बनाने वाला तेंदुआ पिंजरे में कैद हो गया है।

आपको बता दें कि बीते दिन ही डीएम ने तेंदुए को ढेर करने का आदेश जारी किया था और साथ ही शिकारी भी नियुक्त किया था। जानकारी मिली है कि तेंदुए को रानी बाग रेस्क्यू सेंटर भेजा गया है। हालांकि अभी ये साफ नहीं हुआ कि पिंजरे में कैद हुआ तेंदुआ आदमखोर है या नहीं। तेंदुआ की लार के सैंपल परीक्षण के लिए भेजे हैं।

परिजनों ने की थी तेंदुए को ढेर करने की मांग

आपको याद दिला दें कि बीते मंगलवार देर शाम चोपड़ा ग्राम सभा के दांगड़ तोक निवासी मोहन सिंह जीना की 5 साल की बच्ची को राखी पर तेंदुआ ने हमला कर दिया था। जिसे परिजनों ने देख लिया था। शोर शराबा करने पर तेंदुआ बच्ची को घायल कर जंगल की ओर भाग गया था। परिजन बच्चों की अस्पताल ले गए थे जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। परिजनों और ग्रामीणों ने तेंदुआ को मारने की मांग को लेकर हंगामा किया था और बच्ची का अंतिम संस्कार न करने की जिद्द पर अड़ गए थे। अधिकारियों के समझाने के बाद परिजन माने और बच्ची का अंतिम संस्कार किया था। वहीं इसके बाद तेंदुए को ढेर करने का आदेश जारी हुआ था और साथ ही बच्ची के परिजनों को राहत चेक सौंपा था।वहीं वन विभाग द्वारा क्षेत्र में तेंदुए को पकड़ने के लिए दो पिजरे लगाए थे। शिकारी और वनकर्मियों ने रात भर गश्त लगाई लेकिन तेंदुआ नहीं दिखा। सुबह देखा तो पिंजरे में तेंदुआ कैद था।

रेंजर बीएस मेहता ने बताया कि फिलहाल तेंदुआ को रेस्क्यू सेंटर रानीबाग भेजा जा रहा है। जिसके लार के सैंपल लेकर परीक्षण को देहरादून भेजे जाएंगे। परीक्षण के बाद ही स्पष्ट हो पाएगा कि आदमखोर हैया नहीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here