उत्तराखंड के राज्यपाल का कार्यकाल पूरा, राम नाईक हो सकते हैं कार्यवाहक राज्यपाल

देहरादून- उत्तराखंड के राज्यपाल के.के. पॉल का कार्यकाल 8 जुलाई को पूरा हो गया। वर्तमान राज्यपाल को एक्सटेंशन मिलेगा या कोई नई शख्सियत उत्तराखंड के महामहिम का पदभार संभालेगी, इस पड़ताल में यह संकेत मिले हैं।

सूत्रों की मानें तो उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक उत्तराखंड के कार्यवाहक राज्यपाल हो सकते हैं।

अचानक कोई परिवर्तन न हुआ तो मंगलवार तक कार्यवाहक राज्यपाल शपथ ले सकते हैं। भाजपा केंद्रीय नेतृत्व से जुड़े उच्च पदस्थ सूत्रों ने इस जानकारी की पुुष्टि की है। साथ ही यह भी दावा किया है कि देर रात अथवा रविवार तक गृह मंत्रालय से इस बाबत आदेश उत्तराखंड शासन तक पहुंच जाएगा। हालांकि स्थानीय स्तर पर इस सूचना की आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई।

अब तक ये रहे हैं राज्यपाल

राज्यपाल डॉ. केके पॉल से पहले डॉ. अजीज कुरैशी, मार्गेट आल्वा, बीएल जोशी, सुदर्शन अग्रवाल और सुरजीत सिंह बरनाला उत्तराखंड के राज्यपाल रहे हैं।

राज्यपाल बने डॉ. पॉल ने आठ जनवरी 2015 को उत्तराखंड की कमान संभाली थी

आठ जुलाई 2013 को मेघालय के राज्यपाल बने डॉ. पॉल ने आठ जनवरी 2015 को उत्तराखंड की कमान संभाली थी। अपने राजनीतिक बयानों और इस्तीफे पर केंद्र सरकार से तनातनी की वजह से विवादित हुए डॉ. अजीज कुरैशी के उत्तराधिकारी के रूप में उत्तराखंड आए डॉ. पॉल ने राजभवन की गरिमा का पूरा पूरा ख्याल रखा। अपने साढे़ तीन साल के कार्यकाल में डॉ. पॉल का शिक्षा के प्रति खासा फोकस रहा है। इस दौरान विद्यालयी से उच्च शिक्षा स्तर तक मेधावी छात्र-छात्राओं और शिक्षकों को प्रोत्साहित करने के लिए नए पुरस्कार भी शुरू किए गए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here