सेना से लेकर कश्‍मीर तक, पाकिस्‍तान के ‘स्‍पाई ट्रैप’ का खुला कच्‍चा चिट्ठा, पकड़े गए जासूस

नई दिल्‍ली : इंटर-सर्विसिज इंटेजिलेंस के जासूस पाकिस्‍तानी हाई कमिशन में काम करते हुए इन्‍फॉर्मेशन जुटा रहे थे। रविवार को उन्‍हें रंगे हाथ क्‍लासिफाइड डॉक्‍युमेंट एक्‍सचेंज करते पकड़ा गया। उनकी गिरफ्तारी ने पाकिस्‍तान के ‘स्‍पाई ट्रैप’ का नक्‍शा सामने रख दिया है। ISI के ये जासूस खुद को ‘कारोबारी’ बताकर डिफेंस ऑफिसर्स से मिलते। उनसे कहते कि ‘न्‍यूज रिपोर्टर्स’ के लिए इन्‍फॉर्मेशन ले रहे हैं। जानकारी हाथ लगते ही ISI तक पहुंचा दी जाती। पाकिस्‍तान की प्‍लानिंग कश्‍मीर से लेकर मिलिट्री तक के सीक्रेट्स हासिल करने की है।

तीनों को ISI से पूरी ट्रेनिंग मिली थी। आबिद हुसैन और ताहिर खान फर्जी आधार कार्ड लेकर घूम रहे थे। वो जिस कार में घूम रहे थे, उसे जावेद हुसैन चला रहा था। ये डिफेंस के अधिकारियों को बार-बार ललचाते, बहाने से उनसे इन्‍फॉर्मेशन निकलवाने की कोशिश करते। इस‍ वजह से मिलिट्री इंटेलिजेंस के रडार पर थे। दिल्‍ली पुलिस की स्‍पेशल सेल के साथ मिलकर उन्‍हें ट्रैक करना शुरू किया गया। तीनों पाकिस्‍तानी नागरिकों रविवार को करोलबाग में बेहद सेंसिटिव इन्‍फॉर्मेशन के लिए एक ‘डिफेंस कर्मचारी’ से मिलने गए थे। तभी उन्‍हें धर दबोचा गया।

पाकिस्तान हाई कमिशन के डिपार्टमेंट ऑफ ट्रेड में असिस्‍टेंट आबिद हुसैन प्ैप् का ऑपरेटिव था। न्‍यूज एजेंसी एआईएनएस ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि वह पाकिस्‍तान के पंजाब का रहने वाला है। उसने भारत को बताया कि वह अमृतसर से है। उसका साथ मोहम्‍मद ताहिर इस्‍लामाबाद से है और पाकिस्तान हाई कमीशन में अपर डिविजन क्‍लर्क है। दोनों दो साल से हाई कमिशन में थे। उनकी गाड़ी चलाने वाला जावेद भी पाकिस्‍तान के पंजाब का रहने वाला है। दोनों साथ-साथ न्‍यूज रिपोर्टर्स के लिए इन्‍फॉर्मेशन बटोरने निकलते थे। न्यूज रिपोर्टर्स दरअसल डीकॉय रिपोर्टर्स थे, जिन्‍हें हर आर्टिकल के 25 हजार रुपये और महंगे तोहफे मिला करते थे। उन्‍हें पेटीएम जैसे ऐप से भी पैसा पहुंचता था।

अपने तीन जासूस पकड़े जाने से पाकिस्‍तान सकते में है। उसने अपने स्‍टाफर्स पर जासूसी के आरोप को बेबुनियाद और झूठा करार दिया है। इस्‍लामाबाद ने कहा कि उसके कर्मचारियों को टॉर्चर किया जा रहा है। मगर यहां भी पाकिस्‍तान ने असली रंग दिखा ही दिया। जब सबका ध्‍यान कोरोना वायरस पर है, तब पाकिस्‍तान कह रहा है कि भारत ने जासूसों को पकड़ कर कश्‍मीर से ध्‍यान हटाने की कोशिश की है। पाकिस्‍तान के विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा है, यह कार्रवाई जम्‍मू-कश्‍मीर में खराब होने हालात और मानवाधिकार उल्‍लंघन और बीजेपी सरकार के सामने खड़ी बाहरी और अंदरूनी चुनौतियों से ध्‍यान हटाने की तरकीब है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here