उत्तराखंड : फिर चर्चा में शिक्षा मंत्री का पूर्व लाइजनिंग अफसर, करना माहरा ने मुख्य चुनाव अधिकारी को लिखी चिट्ठी


देहरादून: शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय के पूर्व लाइजनिंग अफसर सुरेंद्र पाल नेगी एक बार फिर सुर्खियों में हैं। इस बार सुर्खियों की वजह 2022 के विधानसभा चुनाव को लेकर है,कि कहीं वह विधानसभा चुनाव को प्रभावित न करें। सुरेंद्र पाल सिंह लोक निर्माण विभाग में सहायक अभियंता के पद पर कार्यरत हैं। उनकी ड्यूटी विधानसभा चुनाव 2022 में लगा दी गयी है, जिसको लेकर नेता प्रतिपक्ष करण माहरा ने मुख्य निर्वाचन अधिकारी से शिकायत की है,और विधानसभा चुनाव को प्रभावित की जाने की संभावनाओं को देखते हुए सुरेंद्र पाल नेगी को इलेक्शन से दूर रखें जाने की मांग।

दरअसल, सुरेंद्र पाल नेगी गोपेश्वर में लोक निर्माण विभाग में अपर अभियंता के पद पर कार्यरत हैं। जिनकी शिकायत चुनाव ड्यूटी में न लगाए जाने को लेकर नेता उप प्रतिपक्ष ने की है। करन माहरा का कहना है सुरेंद्र पाल नेगी शिक्षा मंत्री और एक भाजपा नेता के साथ संबंध थे, जिसके इनके द्वारा भाजपा के पक्ष में मतदान को प्रभावित किए जाने की संभावना है। पंचायत चुनाव में भी सुरेंद्र पाल पर चुनाव प्रभावित किए जाने के आरोप है,जिसको देखते हुए 2022 के विधानसभा चुनाव में पूर्णता इलेक्शन से दूर रखे जाने की मांग वह करते हैं।

शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे के लाइजनिंग अवसर के रूप में काम करते हुए भी सुरेंद्र पाल नेगी तब विवादों में आ गए थे। जब उन्होंने उत्तरकाशी के बड़कोट में शिक्षा विभाग के अधिकारी को थप्पड़ मारने और देख लेने तक की धमकी दी थी। इसके बाद उन्हें लोक निर्माण विभाग ने जहां सस्पेंड कर दिया था। वहीं, शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने भी उनसे दूरी बना ली थी।

अब 2022 के विधानसभा चुनाव से पहले एक बार फिर वह सुर्खियों में है और इस बार उन पर चुनाव प्रभावित किए जाने के आरोप लगाए गए हैं। ऐसे में देखना यह होगा कि आखिर निर्वाचन आयोग उनको 2022 के विधानसभा चुनाव में ड्यूटी से दूर रखता है या फिर नेता उप प्रतिपक्ष की शिकायत के बावजूद भी उनकी ड्यूटी निर्वाचन में जारी रखी जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here