राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की परपोती को 7 साल की सजा, जानिए क्यों

दक्षिण अफ्रीका के डर्बन की एक अदालत ने सोमवार को भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की एक 56 साल की परपोती को धोखाधड़ी और जालसाजी के एक मामले में 7 साल की सजा सुनाई है। महात्मा की परपोती आशीष लता रामगोबिन को कोर्ट ने 6 मिलियन दक्षिण अफ्रीकी रैंड (3 करोड़ 22 लाख 84 हजार 460 भारतीय रुपये) के फ्रॉड केस में दोषी पाया गया।

महात्मा गांधी की परपोती पर व्यवसायी एसआर महाराज को धोखा देने का आरोप है। एसआर महाराज ने भारत से non-existent consignment के लिए आयात और सीमा शुल्क को कथित रूप से क्लियर कराने के लिए लता रामगोबिन को R6.2 मिलियन एडवांस में दिए थे। उसमें उन्हें लाभ का एक हिस्सा देने का वादा किया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here