मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों पर जमकर बरसे अर्थशास्त्री डॉ. मनमोहन सिंह, दी सलाह

देश के पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने भारत की गिरती अर्थव्यवस्था पर चिंता जाहिर की। उन्होंने कहा कि जीडीपी का पांच फीसदी पर पहुंच जाना इस बात का संकेत है कि हम एक लंबी मंदी के भंवर में फंस चुके हैं। भारत की अर्थव्यवस्था में तेजी से आगे बढ़ने की क्षमता है, लेकिन मोदी सरकार के कुप्रबंधन ने देश की अर्थव्यवस्था को मंदी में ढकेल दिया है।

मनमोहन सिंह ने कहा कि अर्थव्यवस्था अब तक नोटबंदी और जीएसटी जैसे मानवीय कुप्रबंधन से उबर नहीं पाई है। कहा कि पिछली तिमाही में जीडीपी का 5 फीसदी पर आना दिखाता है कि अर्थव्यवस्था एक गहरी मंदी की ओर जा रही है। उन्होंने मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की ग्रोथ सिर्फ 0.6 रहने पर हैरानी जताते हुए कहा कि इससे साबित होता है कि घरेलू मांग में निराशा है और खपत में वृद्धि 18 महीने के सबसे निचले स्तर पर है। नॉमिनल जीडीपी 15 साल के सबसे निचले स्तर पर पहुंच गई है। कर राजस्व में भारी कमी है। मनमोहन सिंह ने कहा, निवेशकों में भारी उदासीनता है. यह आर्थिक सुधार की नींव नहीं है।

देशभर में लोगों की नौकरियां जाने पर चिंता व्यक्त की

मनमोहन सिंह ने ऑटोमोबाइल सेक्टर समेत देशभर में लोगों की नौकरियां जाने पर चिंता व्यक्त की। उन्होंने कहा कि ग्रामीण भारत की स्थिति और दयनीय है। किसानों को सही दाम नहीं मिल रहा और ग्रामीण आय गिर गई है। उन्होंने कहा कि जिस कम महंगाई दर को मोदी सरकार दिखा रही है, उसकी कीमत हमारे किसान और उनकी आय है। डॉ. मनमोहन सिंह ने मोदी सरकार को सलाह दी कि हम सरकार से गुजारिश करते हैं कि अपनी राजनीतिक बदले के एजेंडे को किनारे रखे और समझदार लोगों से बात कर हमारी अर्थव्यवस्था को नई राह दिखाए जो पैदा किए गए संकट में फंस गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here