जिलाधिकारी ने बनाया नन्हे बच्चों को 20 मिनट के लिए डीएम, जानी शहर की बड़ी समस्याएं

हल्द्वानी : नायक फिल्म में अभिनेता अनिल कपूर को एक दिन के लिए सीएम बनते तो सभी ने देखा होगा। कुछ इसी तर्ज पर बुधवार को प्राइमरी स्कूल के तीन बच्चों ने नैनीताल जिले का जिलाधिकारी बनकर शहर की समस्याओं का जायजा लिया। तीनों ने न केवल समस्याओं का जायजा लिया, बल्कि प्रशासनिक मशीनरी के समक्ष समस्याओं के समाधान का सुझाव भी रखा।

जिलाधिकारी नैनीताल के वाहन पर सवार तीनों डीएम देव लखेड़ा, आशा बिष्ट और नितिन आर्य अर्दली व गनर की मौजूदगी में देवलचौड़ चौराहे से शहर के भ्रमण पर निकले। करीब 20 मिनट तक जिलाधिकारी का जिम्मा संभालने वाले तीनों डीएम ने शहर की यातायात व्यवस्था और सफाई के इंतजाम का जायजा लिया। सड़क के दोनों तरफ फैले कूड़े, जगह-जगह लगते जाम और धुआं छोड़ते वाहनों से बढ़ते प्रदूषण पर तीनों ने चिंता जाहिर की। प्रशासनिक अमले को अवगत कराया कि शहर में जगह-जगह लगते जाम से यात्रियों को परेशानी उठानी पड़ती है।

वाहनों से निकलने वाले जहरीले धुएं से लोगों के स्वास्थ्य पर गलत असर पड़ता है। जगह-जगह बिखरे कूड़े से शहर की छवि खराब करने के साथ लोगों को बीमार बनाता है। इसके सुधार के लिए व्यापक इंतजाम किए जाने चाहिए।

यहां बता दें कि नैनीताल डीएम दीपेंद्र कुमार चौधरी बुधवार को हल्द्वानी स्थित देवलचौड़ प्राथमिक विद्यालय का जायजा लेने पहुंचे थे। बच्चों से रूबरू होने के दौरान तीनों ने भविष्य में डीएम बनने की बात कही। तब तीनों को 20 मिनट के लिए डीएम बनाया गया। डीएम चौधरी ने तीनों के सुझावों पर कार्रवाई कराने की बात कही।

बतौर डीएम जब स्कूल आएंगे

डीएम दीपेंद्र चौधरी ने तीनों से पूछा कि भविष्य में डीएम बनने के बाद पहली बार स्कूल आने पर क्या करोगे? देव ने जवाब दिया सबसे पहले मैडम के पैर छुऊंगा। स्कूल को बड़ा व अच्छा बनाऊंगा, ताकि सभी लोग अच्छे से पढ़ सकें।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here