देहरादून : जब बुजुर्ग ने पकड़ा पुलिस वाले का हाथ और माथे से लगा लिया

ये तस्वीर और वीडियो देख आँखों से आंसू छलक आए। एक बुजुर्ग ने देहरादून पुलिस के एक अधिकारी का हाथ पकड़ लिया और उसे माथे से लगा लिया। बता दें कि ये वीडियो देहरादून के प्रेमनगर थाना पुलिस की है जहां प्रेमनगर पुलिस ने एक आश्रम को गोद लिया और हाथ पकड़ने वाले बुजुर्ग उसी आश्रम में रहते हैं जिसका जिम्मा प्रेमनगर पुलिस ने उठाया है।

जिन बुजुर्गों का दर्द उनके बेटे-बहू नहीं समझे और जिनका कोई नहीं है इस दुनिया में उसका दर्द समझा उत्तराखंड की देहरादून पुलिस ने। जी हां देहरादून के प्रेमनगर पुलिस ने इस वृद्धाश्रम को गोद लिया है।

प्रेमनगर थाना पुलिस बनी बुजुर्गों की मित्र

प्रेमनगर थानाध्यक्ष ने बताया कि मोहनपुर क्षेत्र में कुछ बुर्जुग व्यक्तियों को भोजन सामग्री की आवश्यकता थी जिसकी सूचना प्रेमनगर थानाध्यक्ष को दी गई। थानाध्यक्ष बताए गए पते पर पहुंचे तो पता चला कि मोहनपुर क्षेत्र में रघुवीर सिह रावत के मकान के पिछले हिस्से पर साई वृद्धा आश्रम नाम से एक वृद्धा आश्रम का संचालन किया जा रहा है, जिसमे रहने वाले बुर्जुग व्यक्तियों की देखभाल रघुवीर सिह रावत की पत्नी प्रेमलता रावत  कर रहीं थी लेकिन बीते माह 10 अप्रैल को प्रेमलता रावत का आकस्मिक निधन हो गया।

वर्ष 1984 में हुई थी आश्रम की शुरुआत

जानकारी मिली कि उक्त वृद्धा आश्रम की शुरूआत वर्ष 1984 में ग्राम महिला कल्याण संस्थान के नाम से की गयी थी । वर्ष 2004 से 2016 तक उक्त संस्थान को सरकार द्वारा आर्थिक सहायता प्रदान की जा रही थी, लेकिन वर्ष 2016 के बाद प्रेमलता रावत ने निजी व्यय पर संस्थान को चलाना शुरु किया। प्रेमलता रावत अन्य स्वमसेवी संस्थओ से भी जुड़ी हुई थी, जिनके माध्यम से प्राप्त होने वाली सहायता से उनके द्वारा उक्त वृद्धा आश्रम का संचालन किया जाता था लेकिन उनकी मृत्यु के बाद आश्रम के संचालन मे काफी कठिनाईयां आ रही थी।

पुलिस ने वृद्धाश्रम को लिया गोद

वहीं वृद्धा आश्रम मे रह रहे बुर्जुग व्यक्तियों की सहायता के लिए आगे आते हुए थाना प्रेमनगर पुलिस ने वृद्धाश्रम को गोद लेते हुए उसमें रहने वाले सभी बुजुर्ग व्यक्तियों को आजीवन खाद्य वस्तुएँ व अन्य आवश्यक सामग्री उपलब्ध कराने का निर्णय लिय़ा. साथ ही आश्रम में रह रहे बुर्जुग व्यक्तियों के लिए आवश्यक वस्तुओं के अतिरिक्त उनके स्वास्थय परीक्षण के लिए सिनर्जी अस्पताल के MD कमल कान्त गर्ग से डाक्टरों की एक मेडिकल टीम को उक्त आश्रम में भेजने का अनुरोध किया गया था।

डॉ. जितेन्द्र वर्मा ने ली दवाईयों की जिम्मेदारी ली

वहीं आज 2 मई को थाना प्रेमनगर पुलिस ने सिनर्जी अस्पताल से आयी मेडिकल टीम की सहायता से आश्रम में रह रहे सभी बुर्जुग व्यक्तियों का स्वास्थय परीक्षण करवाया। साथ ही सभी बुर्जुग व्यक्तियों के लिए ड्राई राशन, फल व अन्य खाद्यय वस्तुएं रघुवीर सिह रावत को उपलब्ध करायी गयी। थाना प्रेमनगर पुलिस द्वारा शुरू की गयी इस मुहिम से प्रभावित होकर सिनर्जी अस्पताल से मेडिकल टीम  के साथ आये डॉ. जितेन्द्र वर्मा ने उक्त सभी बुर्जुग नागरिकों को अपनी ओर से सभी दवाईयां उपलब्ध कराते हुए आजीवन उनके स्वास्थय परीक्षण व दवाईयों की जिम्मेदारी ली।

थाना प्रेमनगर पुलिस द्वारा की गयी उक्त सराहनीय पहल का रघुवीर सिह रावत व आश्रम मे निवासरत बुर्जुग व्यक्तियों द्वारा दिल से अभार प्रकट किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here