देहरादून में खाकी शर्मसार: आरोपियों का साथी निकला सिपाही, करता था ये काम

देहरादून : देहरादून से देहरादून पुलिस विभाग के लिए ही बड़ी खबर है। खाकी को एक बार फिर से सिपाही ने दागदार करने का काम किया। बता दें कि एक चोरी मामले के खुलासे में चोरों का सरगना पुलिसकर्मी ही निकला जो की पुलिस के हर मूवमेंट की जानकरी चोरों को देता था औऱ उसकी एवज में चोरों से पैसे लेता था। देहरादून में आज एसएसपी ने डोईवाला में हुई चोरी का खुलासा किया जिससे पुलिस महकमा ही शर्मसार हुआ। डोईवाला में बीते दिनों बंद पड़ी फैक्ट्रियों में लगातार चोरी को अंजाम दिया गया। पुलिस ने जांच में एक सिपाही समेत 04 को गिरफ्तार किया। वहीं एक आरोपी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है। मिली जानकारी के अनुसार सिपाही स्वप्निल ऋषि लाल थप्पड़ चौकी में तैनात था जानकारी के मुताबिक सिपाही पर लंबे समय से  देहरादून पुलिस के आलाधिकारीयो की नज़र थी।

आपको बता दें कि 28 अक्टूबर को डोईवाला निवासी चन्द्रभान सिहं पाल ने थाने आकर तहरीर दी कि लालतप्पड़ में बिरला पावर सेलियान्स (बिरला यामाहा) में चोरी की घटनाए हो रही हैं, जिसमे लोहा और मशीन चोरी हो रही हैं। फैक्ट्री बन्द पडी है, सिक्योरिटी गार्ड और केयर टेकर न होने के कारण कल रात भी कम्पनी में चोरी हुई। शिकायत प थाना हाजा में विभिन्न धाराओं के तहत अज्ञातों पर मुकदमा दर्ज किया गय।

एसएसपी के निर्देश पर डोईवाला थाने में टीमें गठित की गयी। गठित टीमों ने आसपास लगे सीसीटीवी कैमरो को खंगाला गया और साथ ही मुखबिर तंत्र को भी सक्रिय किया गया। इसी बीच मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने घटना में संलिप्त तीन आऱोपियों मौहम्मद इरशाद उर्फ शीशी पुत्र मो0 इलियास निवासी दूधली थाना कीरतपुर जिला बिजनौर, मुकम्मिल पुत्र सगीर निवासी मुसलिम बस्ती, भानियावाला थाना डोईवाला और भोला उर्फ नाटू पुत्र सुरेश निवासी परशुराम चौक, गोविन्दनगर झुग्गी झोपडी ऋषिकेश को एक छोटे हाथी वाहन में मय माल लोहे के बड़े छह फिट के गार्टर-05, बड़े-छोटेे एंगल-34 अद्द के साथ माजरी ग्रान्ट लालतप्पड़ से गिरफ्तार किया।

पूछताछ में मुख्य अभियुक्त इरशाद ने बताया कि उसकी और मुकम्मिल की भानियावाला में कबाड़ी की दुकान है, जहां वो दोनों मिलकर लगभग पिछले 07 वर्षों से कबाड़ी का काम कर रहे हैं। भोला गाड़ी चलाने का काम करता है, जो अक्सर हमारी दुकान से कबाड़ का माल लेकर जाता था। एक साल पहले उनकी मुलाकात केशवपुरी बस्ती निवासी आशीष और अर्जुन से हुई, जो हमारी दुकान में अक्सर लोहे का सामान बेचने आते थे। उन्होंनें हमे बताया कि लालतप्पड़ स्थित बिरला यामाहा फैक्ट्री काफी लम्बे समय से बन्द पड़ी है, जिसके अन्दर लोहे के बड़े-बड़े गार्टर और एंगल पड़े हैं, जिन्हें हम आसानी से चुराकर बेच सकते हैं। इसके बाद हमने योजना बनाई और इस योजना में मुकम्मिल के अलावा आशीष, अर्जुन तथा भोला को भी शामिल किया।

योजना के मुताबिक मैने एक गैस कटर की व्यवस्था की। मैं, मुकम्मिल, आशीष और अर्जुन फैक्ट्री में जाकर सामान चोरी करने का काम करते थे और भोला चोरी के माल को अपनी गाडी में ले जाकर बेचने का काम करता है। हम लोग लगभग पिछले एक वर्ष से उक्त बन्द पडी फैक्ट्री के अन्दर गैस कटर की सहायता से गार्टर तथा एंगलो को काटकर उनके छोटे-छोटे टुकडे बनाकर चोरी के माल को ऋषिकेश व अन्य क्षेत्रों में ले जाकर बेच रहे थे। पूर्व में हमें लाल तप्पड चौकी में नियुक्त सिपाही स्वप्निल ऋषि द्वारा चोरी के माल के साथ पकडा था लेकिन मौके पर हमारे द्वारा उसे कुछ हिस्सा देने पर उसने हमें मौके पर ही छोड दिया।

इसके बाद वह लगातार हमारे सम्पर्क में था तथा चोरी के घटनाओं को अंजाम देने के दौरान वह पुलिस के मूवमेंट से सम्बन्धित सारी जानकारियां हमे देता था, जिसके एवज में हम उसे हर चोरी में 10 से 15 हजार तक का हिस्सा देते थे। हमारा पैसों का लेनदेन अर्जुन और आशीष के द्वारा किया जाता था। पूछताछ के दौरान कां0 स्वप्निल ऋषि का नाम प्रकाश में आने पर अभियोग में धारा 120 बी भादवि की बढोतरी की गयी।

नाम/पता गिरफ्तार अभियुक्त:-

01ः मौहम्मद इरशाद उर्फ शीशी पुत्र मो0 इलियास निवासी दूधली थाना किरतपुर बिजनौर उ0प्र0, उम्र 33 वर्ष।
02ः मुकम्मिल पुत्र सगीर निवासी: मुसलिम बस्ती, भानियावाला, थाना डोईवाला, उम्र 19 वर्ष।
03ः भोला उर्फ नाटू पुत्र सुरेश निवासी: परशुराम चौक, गोविन्दनगर झुग्गी झोपडी ऋषिकेश, उम्र 25 वर्ष।
04ः स्वप्निल ऋषि, पुत्र स्व0 गुन्जन सिंह, निवासी: काशीपुर, जनपद ऊधमसिंह नगर, उम्र 32 वर्ष।(पुलिसकर्मी)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here