रक्षा मंत्री बोले : भारत-नेपाल के बीच ‘रोटी-बेटी’ का रिश्ता, बैठकर निकालेंगे ग़लतफ़हमी का रास्ता

देहरादून- : वर्चूअल रैली में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सम्बोधन किया। अपने संबोधन में राजनाथ सिंह ने प्रदेश पदाधिकारियों और प्रदेशवासियों का स्वागत किया और कहा कि प्रत्यक्ष मिलने की थी इच्छा, लेकिन क़रोना के चलते नहीं मिल पाए। वहीं राजनाथ सिंह ने उत्तराखंड को वीरों की और देवभूमि बताया।

वर्चुअल रैली के दौरान संबोधन में राजनाथ सिंह ने कहा कि ग़ैरसैंण को राजधानी घोषित करना बड़ा फ़ैसला है। कहा कि राज्य आंदोलन में ग़ैरसैण को राजधानी बनाना प्रमुख मुद्दा था। वहीं जनता के स्वास्थ्य की चिंता करते हुए राजनाथ सिंह बोले कि अटल आयुष्मान योजना से भी जनता को फ़ायदा मिला। मोदी सरकार ने केंद्र के छः साल के कार्यकाल में कई बुनियादी काम किए। कई इलाक़ों में आज़ादी के बाद से बिजली नहीं, जहाँ हमने बिजली पहुँचाई। लोगों के बैंक में खोले गए अकाउंट। आवास की बुनियादी आवश्यकता को पूरा किया गया।

2022 पूरा होते-होते प्रत्येक व्यक्ति को छत देने का संकल्प-रक्षा मंत्री

वहीं राजनाथ सिंह ने कहा कि 2022 पूरा होते-होते प्रत्येक व्यक्ति को छत देने का संकल्प है। वहीं नेपाल-भारत के रिश्ते पर राजनाथ सिंह ने कहा कि गोरखा रेजिमेंट के उदघोश में जय महा काली का ज़िक्र है। ऐसे में भारत और नेपाल के बीच का रिश्ता रोटी-बेटी का रिश्ता है। दुनिया की कोई ताक़त इसको तोड़ नहीं सकती। मिल बैठकर निकाला जाएगा ग़लतफ़हमी का रास्ता।

अगले डेढ़ साल में बचे कार्य भी पूरे होने का भरोसा है-राजनाथ सिंह

राजनाथ सिंह ने कहा कि 2017 के उत्तराखंड भाजपा घोषणा पत्र के 85% काम पूरा होने की सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने जानकारी दी। अगले डेढ़ साल में बचे कार्य भी पूरे होने का भरोसा है। वन नेशन वन राशन की मोदी सरकार ने व्यवस्था बनाई थी।

राजनाथ सिंह ने कोरोना को लेकर कहा कि इसके चलते विश्व के साथ देश की अर्थव्यवस्था पर भी असर पड़ा। 20 लाख करोड़ का आर्थिक पैकिज देकर अर्थव्यवस्था सम्भालने का काम होगा और देश को आत्मनिर्भर बनाया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here