बिहारी महासभा ने मनाई बसंत पंचमी, शासन-प्रशासन के अधिकारियों समेत मंत्री-विधायक रहे मौजूद

देहरादून : बिहारी महासभा द्वारा बसंत पंचमी के मौके पर 180 सी राजपुर रोड स्थित शिव बाल योगी महाराज के प्रांगण में कार्यक्रम का आयोजन किया गया. बिहारी महासभा द्वारा धूमधाम से बसंत पंचमी मनाई गई। इस मौके पर मुख्य सचिव उत्पल कुमार ने भी शिरकत की। बता दें कि मूर्ति पूजा के लिए महासभा ने हरिद्वार से मां सरस्वकी की मूर्ति वनवाई।

सुबह 10:30 बजे मूर्ति पूजन एवं सरस्वती वंदना एवं आरती की गई। मूर्ति पूजन के बाद स्थानीय भक्तों को भंडारे का प्रसाद वितरण किया गया ।इसके बाद दोपहर में हजारों भक्तों के साथ भंडारे का आयोजन किया गया शाम 6 बजे से भव्य सांस्कृतिक संध्या का भी आयोजन किया गया।

शासन-पुलिस प्रशासन के अधिकारियों ने की शिरकत

उत्पल कुमार सिंह मुख्य सचिव उत्तराखंड शासन, ओमप्रकाश अपर मुख्य सचिव उत्तराखंड शासन, आनंद वर्धन प्रमुख सचिव उत्तराखंड शासन, अमरिंदर कौर ओलक सचिव उत्तराखंड शासन, नितेश झा सचिव स्वास्थ्य एवं गृह, उत्तराखंड शासन, राधिका झा सचिव माननीय मुख्यमंत्री एवं ऊर्जा, रंजीत सिन्हा प्रभारी सचिव कौशल विकास, पंकज पांडे प्रभारी सचिव स्वास्थ्य, आशीष श्रीवास्तव एमडीडीए वीसी एवं सीईओ स्मार्ट सिटी, आशीष श्रीवास्तव एमडी जीएमवीएन अपर सचिव जनगणना, रामविलास यादव अपर सचिव उत्तराखंड शासन, चंद्रेश यादव सचिव उत्तराखंड शासन, विनय शंकर पांडे म्युनिसिपल कमिश्नर देहरादून  पुलिस प्रशासन से अशोक कुमार डीजी लॉ एंड ऑर्डर, विनय कुमार, अमित सिन्हा आईजी निदेशक आईटीडीए, एपी अंशुमान आईपीएस, श्वेता चौबे एसपी सिटी देहरादून

दून मेयर औऱ मंत्री-विधायक समेत कई नेता रहे मौजूद

इसके अलावा राजनीतिक दलों से सुनील उनियाल गामा मेयर देहरादून सीता राम भट,भाजपा के मसूरी विधायक गणेश जोशी विधायक  राजपुर खजान दास वरिष्ठ विधायक एवं पूर्व विधानसभा अध्यक् हरबंस कपूर उमेश शर्मा काऊ डॉक्टर देवेंद्र भसीन विनायक गोयल के साथ-साथ कांग्रेसी प्रवक्ता गरिमा म्हारा द सोनी आर पी रतूड़ी कांग्रेश अल्पसंख्यक आयोग के नवनिर्वाचित अध्यक्ष राजकुमार प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह जी सरकार के पूर्व वरिष्ठ मंत्री दिनेश अग्रवाल कांग्रेस उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना महानगर अध्यक्ष लाल चंद शर्मा

बिहारी महासभा के सचिव चंदन कुमार झा ने बताया कि बसंत पंचमी हर वर्ष हिंदू पंचांग के अनुसार माघ महीने के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाया जाता है। इसे नागपंचमी भी कहते हैं बसंत ऋतु में पेड़ों में नई नई कोपले निकलनी शुरू हो जाती है नाना प्रकार के मनमोहक फूलों से धरती प्राकृतिक रूप से सज जाती है खेतों में सरसों के पीले फूल की चादर जाती है और कोयल की कूक से दसों दिशाएं गुंजायमान रहती है बसंत पंचमी का त्यौहार 30 जनवरी को पूरे देश में श्रद्धा और उत्साह के साथ मनाया गया

 बिहारी महासभा के अध्यक्ष ने बताया कि संपूर्ण भारत में इस तिथि को विद्या और बुद्धि की देवी सरस्वती की पूजा की जाती है पुराणों में वर्णित एक कथा के अनुसार भगवान कृष्ण ने देवी सरस्वती से खुश होकर उन्हें वरदान दिया था कि बसंत पंचमी के दिन तुम्हारी आराधना की जाएगी पारंपरिक रूप से यह त्यौहार बच्चों की शिक्षा के लिए काफी शुभ माना गया है इसलिए देश के अनेक भागों में इस दिन बच्चों की पढ़ाई लिखाई का श्रीगणेश किया जाता है बच्चों को प्रथमा क्षण ज्ञानी पहला शब्द लिखना और पढ़ना सिखाया जाता है बिहार में इसे विद्यारंभ पर्व कहते हैं यहां के अन्य स्कूलों में इसके लिए विशेष अनुष्ठान एवं आयोजन भी किए जाते हैं

बिहारी महासभा के सरस्वती पूजा कार्यक्रम में मुख्य रूप से सभा के अध्यक्ष ललन सिंह सचिव चंदन कुमार झा कोषाध्यक्ष रितेश कुमार के साथ-साथ पूर्व अध्यक्ष सत्येंद्र कुमार सिंह कार्यकारी सचिव सचिव दांत गिरी डॉक्टर रंजन कुमार विद्या भूषण सिंह राजेश कुमार गोविंदगढ़ मंडल के अध्यक्ष विनय कुमार यादव मंडल सचिव गणेश साहनी कोषाध्यक्ष विजय पाल के साथ-साथ सुरेश ठाकुर धर्मेंद्र ठाकुर दिनेश कुमार कार्यकारिणी सदस्य रघु ज्वेलर्स फिजिक्स प्लेनेट के डायरेक्टर रवि कुमार राजेश रोशन के साथ-साथ बिहारी महासभा के हजारों की संख्या में सदस्यों ने वसंत पंचमी कार्यक्रम में भाग लिया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here