रेल टिकट कालाबाजारी का सबसे बड़ा खुलासा, 600 ID, 3000 बैंक खाते, आतंकी कनेक्शन

नई दिल्ली : रेलवे प्रटेक्शन फोर्स (आरपीएफ) ने मंगलवार को एक ऐसे ई-टिकटिंग रैकिट का खुलासा किया, जिसके तार दुबई, पाकिस्तान और बांग्लादेश से जुड़े हुए हैं। आरपीएफ डीजी अरुण कुमार ने बताया कि इसके पीछे टेरर फंडिंग का शक है। रैकिट का सरगना दुबई में है। जांच के दौरान चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। इस मामले में गिरफ्तार एक ही शख्स के स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के 2,400 ब्रांचों में अकाउंट मिले हैं।

टिकटों के अवैध कारोबार पर सबसे बड़ी कार्रवाई में आरपीएफ ने झारखंड के एक शख्स को गिरफ्तार किया है। शक है कि वह टेरर फाइनैंसिंग में शामिल है। गिरफ्तार किए गए शख्स का नाम गुलाम मुस्तफा है और उसे भुवनेश्वर से पकड़ा गया है। मुस्तफा मदरसे में पढ़ा हुआ है लेकिन खुद से सॉफ्टवेयर डिवेलपिंग को सीखा है। लाम मुस्तफा के पास से आईआरसीटीसी के 563 पर्सनल आईडी मिले हैं। इसके अलावा संदेह है कि एसबीआई के 2,400 और क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों की 600 शाखाओं में उसके बैंक खाते हैं।

आरपीएफ के डीजी अरुण कुमार ने बताया कि ई-टिकटिंग रैकिट के सिलसिले में गिरफ्तार किए गए गुलाम मुस्तफा से पिछले 10 दिनों में आईबी, स्पेशल ब्यूरो, ईडी, एनआईए और कर्नाटक पुलिस पूछताछ कर चुकी है। रैकिट के तार मनी लॉन्ड्रिंग और टेरर फंडिंग से जुड़ने का शक है।रैकिट का मास्टरमाइंड सॉफ्टवेयर डिवेलपर हामिद अशरफ 2019 में गोंडा के स्कूल में हुए बम ब्लास्ट में शामिल था। फिलहाल शक है वह दुबई में है। आरपीएफ डीजी ने बताया कि शक है कि काले कारोबार से हामिद अशरफ हर महीने 10 से 15 करोड़ रुपये कमाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here