बड़ी खबर : गजब! संसद में बोली सरकार : भारत-चीन सीमा पर घुसपैठ की नहीं कोई जानकारी

नई दिल्ली: भरत-चीन सीमा पर दोनों देशों के बीच तनाव चरम पर है। युद्ध की तैयारियां चल रही हैं। एक दिन पहले ही रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने चीन विवाद पर आधिकारिक बयान दिया था, लेकिन हैरानी इस बात की है कि संसद के मानसून सत्र के दौरान पूछे गए सवाल के जवाब में पिछले छह महीने में कितनी बार सीमा पर पाकिस्तान और चीन की तरफ से घुसपैठ की घटना को अंजाम दिया गया है।

इस पर गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने राज्यसभा में बताया कि पिछले 6 महीनों में भारत-चीन सीमा पर कोई घुसपैठ की सूचना नहीं है। जबकि पूर्वी लद्दाख में भारत-चीन सीमा पर दोनों देशों के बीच लंबे समय से सैन्य गतिरोध बना हुआ है। दोनों पक्षों के सैनिकों के बीच रुक-रुक कर झड़प की खबरें भी सामने आ रही हैं। रक्षा राज्यमंत्री श्रीपद नाइक ने राज्यसभा ने भी राज्यभा में लिखित जवाब में घुसपैठ की बात स्वीकारी है।

भारत-पाकिस्तान सीमा पर घुसपैठ पर गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने बताया कि पाकिस्तान की तरफ से फरवरी में जीरो, मार्च में चार, अप्रैल में 24, मई में आठ, जून में शून्य और जुलाई में 11 बार घुसपैठ की कोशिश हुई। एक दिन पहले केंद्र सरकार ने बताया था कि पिछले करीब नौ महीनों में पाकिस्तान ने जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा (एलओसी) के नजदीक सीज फायर उल्लंघन की कुल 3,186 घटनाएं हुई, जो पिछले 17 सालों में सबसे ज्यादा है।

रक्षा राज्यमंत्री श्रीपद नाइक ने राज्यसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा था कि एक जनवरी से 31 अगस्त के बीच जम्मू क्षेत्र में अंतराष्ट्रीय सीमा के पास सीमापार से गोलीबारी की 242 घटनाएं हुई। एक जनवरी से सात सितंबर के बीच जम्मू क्षेत्र में नियंत्रण रेखा (एलओसी) के नजदीक सीजफायर उल्लंघन की कुल 3186 घटनाएं हुई। इस साल सात सितंबर तक जम्मू-कश्मीर में सेना के आठ जवान मारे गए और दो अन्य घायल हो गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here