आप मानो या न मानो, भारत की बेटी ने पांच दिन मे दो बार फहराया एवरेस्ट पर तिरंगा

डेस्क – जिस अंशु के जज्बे को लेकर ‘अंशु-एवरेस्ट कॉलिंग ’ जैसी शार्ट फिल्म को रचा गया उस अंशु ने साबित किया कि उसे वाकई में एवरेस्ट बुला रहा था। वो भी एक बार नहीं, पांच दिन में  दो बार।

जी हां, दो बच्चों की 37 वर्षीय ‘भारतीय मां’ अंशु जामसेनपा ने दुनिया की सबसे ऊंची बर्फीली चोटी पर पांच दिन में दो बार तिरंगा लहरा दिया। अंशु इस कारनामे को करने वाली दुनिया की पहली महिला पर्वतारोही बनी है।

अरुणाचल की अंशु जामसेनपा ने नेपाली पर्वतारोही फुरी शेरपा के साथ चढ़ाई कर बीते रोज पांच दिन में दूसरी बार सुबह 8 बजे एवरेस्ट की ऊंचाई को फतह कर लिया। इससे पहले अंशु ने पांच दिन पहले 16 मई को एवरेस्ट को सलाम किया था और उसकी सरजमी पर तिरंगा लहराया था।

सबसे दिलचस्प बात ये है कि  अंशु ने नेपाल की पर्वातारोही चुरिम शेरपा का रिकार्ड तोड़ दिया है। चुरिम का नाम एक सीजन मे तीन बार एवरेस्ट पर चढ़ाई करने के लिए ‘गिनिज बुक रिकार्ड’ में दर्ज  है।

लेकिन भारत की बेटी अंशु ने पांच दिन में दो बार एवरेस्ट फतह कर चुरिम का रिकार्ड ध्वस्त किया है। भारत की बेटी अंशु के हौसले और कामयाबी khabaruttarakhand.com का सलाम। Congratulations अनु जामसेनपा!

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here