बागेश्वर : 20 वर्षो से संघर्ष कर रहे गापानी गांव के लोग, सीएम से उम्मीद लगाए बैठे हैं

बागेश्वर(गापानी गांव) : आजादी के 70 वर्षो के बाद भी मूलभूत सुविधाओं के अभाव में आज कई गांव के लोग जी रहे हैं. उन्हे हर सुख-सुविधा देने की बात की जाती है लेकिन सिर्फ चुनाव और जीत से पहले…उसके बाद वहां कोई भी नजर नहीं आता. जी हां हम आज बात कर रहे हैं बागेश्वर के गापानी की. जहां गांव के लोग 10 किलोमीटर सड़क मार्ग के अभाव में बीमार बुजुर्गों एवं प्रसूता महिलाओं के डोली से चारपाई से बांध कर दुर्गम रास्तों से होकर सड़क तक पहुँचा रहे हैं. यहां आज तक पैदल चलने के लिए भी ढंग का रास्ता नहीं है।

समाधान पोर्टल में शिकायत कराई दर्ज, फाइल की निरस्त, खबर उत्तराखंड से मांगी मदद

गांव वालों ने खबर उत्तराखंड से सम्पर्क कर उनकी मांग को सीएम औऱ सरकार तक पहुंचाने की गुहार लगाई है. गापानी ग्राम जो बागेश्वर जिले में पड़ता है…यहाँ के ग्रामीण रोड के लिए 20 वर्षो से संघर्ष कर रहे हैं लेकिन इनकी सुनने वाला कोई नही है ग्रामीणों का कहना है अब हम सिस्टम से हार चुके है काफी संघर्ष किया लेकिन हालात जस के तस बने हैं. काफी संघर्ष के बाद 2015 में पीडब्ल्यूडी कपकोट ने इस गांव की रोड के लिए प्रस्ताव बनाकर पर्यावरण एवं वन मंत्रालय के क्षेत्रीय कार्यालय देहरादून को भेजा था, जिसमे 2018 तक कोई सुनवाई नहीं हुई…कई बार पीडब्ल्यूडी ऑफिस के चक्कर काटने के बाद जब कुछ समझ नहीं आया तो ग्रामीणों ने उत्तराखंड सरकार के समाधान पोर्टल में इसकी शिकायत दर्ज करवाई जिसमे फायदे की जगह इस गांव के रोड की फ़ाइल को ही निरस्त कर दिया गया…जिससे ग्रामीण काफी आहत हुए और पीडब्ल्यूडी कपकोट को संपर्क किया.

कहा-आपके सड़क का प्रस्ताव देहरादून से वापस कर दिया गया है

इसके बाद उन्होंने बताया कि आपके सड़क का प्रस्ताव देहरादून से वापस कर दिया गया है और इस प्रस्ताव को केंसिल कर फिर से नया प्रस्ताव बनाया जाएगा, उसके बाद स्वीकृति के लिए देहरादून को प्रेषित की जाएगी. लेकिन कई महीने बीत जाने के बाद भी आज तक कोई नया प्रस्ताव भी नहीं बनाया गया. जिससे ग्रामीणों में सरकार के प्रति काफी रोष है.

2017 में सत्ता परिवर्तन से जगी थी आस लेकिन….

गांववालों का कहना है जब 2017 में सत्ता परिवर्तन हुआ था उन्हें काफी उम्मीदें थीं इस सरकार से अच्छे दिनों की आस में ग्रामीण खुद भी तन मन से लग गए थे. सरकार के प्रचार प्रसार में लेकिन आज उसी सरकार ने आज हमारे मूंह में ऐसा तमाचा मारा जो इतिहास में ढूढने से भी नहीं मिलेगा. रोड़ की सारी प्रक्रिया पूरी हो चुकी थी 4 वर्षों की मेहनत के बाद सारे पेपर बना कर भेज दिए गए थे लेकिन आज उस प्रस्ताव को ही निरस्त कर देना इससे बड़ा तमाचा क्या होगा जो कि एक ऑनलाइन प्रस्ताव है. आप सब इसे FP UK ROAD 15673 201 पर देख सकते हैं.

हमें तो आज भी लगता है हम गुलाम हैं- ग्रामीण

गांवावालों का कहना है कि पिछली सरकार ने कम से कम प्रस्ताव तो लगाया था लेकिन जो सरकार विकास का नारा ले कर सत्ता में आई वह आज जनता का उत्पीड़न करने में उतर आई है. एक समाधान पोर्टल में शिकयत करने पर प्रस्ताव को ही निरस्त कर दिया जो 4 वर्षों के मेहनत से पूरा किया गया था…गांववालों का कहना है कि ये सरकार उन्हें किस युग में धकेल रही है. गांव वालों का कहना है कि हमें तो आज भी लगता है हम गुलाम है या आपातकाल में जी रहे हैं.

गांव वालों की उम्मीदें टूट चुकी है और अब उन्होंने सीएम से मदद की गुहार लगाई है. बूढ़े-बच्चों, महिलाओं के बीमार होने पर सड़क न होने के कारण दिक्कतों का सामना करना  पड़ता है…प्रसूता महिलाओं को तो खासा परेशानी होती है. गांववालों ने सरकार से सीएम से सड़क निर्माण की मांग की है.

1 COMMENT

  1. बहुत दुःखद
    माननीय विधायक महोदय
    और क्षेत्र के गणमान्य व्यक्तियों से एवम
    माननीय मुख्य मंत्री महोदय
    देश के यसस्वी प्रधान मंत्री महोदय आप सभी के आभारी ग्राम वाशी आज के समय में जहाँ हिंदुस्तान एक तरफ डिजिटल वही ऐसे भी गाँव हे जहाँ मूल भूत सुविधाए नही मिल पा रही है आज प्लायन का एक कारण ये भी हे ना रोड ना अस्पताल जबकि महज आठ से दस किलोमीटर यहाँ रोड जानी है और जितनी लागत सरकार की रोड बनाने में लगती उससे कई गुना अधिक यहाँ से मार्केट में फल सब्जियां और कई और कलाकारी इस गाँव के लोगो में हे की कही ना कही आने वाले समय में सड़क जैसी सुविधा मूलतः मिल जाय तो अनेको फायदे सरकार को भी जाता
    महोदय माननीय मुख्यमंत्री और हमारे देश के और हम सबके चहेते
    माननीय प्रधान मंत्री जी और गड़मान्य नेता उत्तराखंड के विकाश हेतु हमेशा आगे रहे हे थोड़ा भी समय निकाल के देखे तो आपकी एक कोशिस सायद
    ग्राम गापानी पोस्ट पपू जिला बागेश्वर चौरा दुग जैसे गाँव और यहाँ निवासी अपने आप को एक हिंदुस्तानी नागरिक होने का आभाष कर पाए।
    धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here