ASI पिता की रिवॉल्वर से खेल रहा था बेटा, सीने पर लगाई नोंक और चला दी…

एक एएसआइ के 14 साल के बेटे ने पिता की रिवॉल्वर से ऐसा खेल खेला कि उसकी जिंदगी चली गई। जी हां मामला हरियाणा के कैथल-पानीपत के पुलिस लाइन के क्वार्टर नंबर 97 का है जहां एक एएसआई के 14 साल के बेटे आशीष ने बुधवार को अलमारी से पिता की लाइसेंसी पिस्तौल निकाली और सीने पर रख चला दी जिससे गोली उसके दिल पर जा लगी जिससे बच्चे की मौत हो गई। मोहल्ले में हड़कंप मच गया। जानकारी मिली है कि जिस वक्त ये घटना हुई उस वक्त बच्चे के माता पिता घर पर नहीं थे, वो अंबाला गए थे। घर पर एएसआई की छोटी बेटी थी। सूचना मिलते ही मौके पर डीएसपी हेड क्वार्टर कुलवंत सिंह, डीएसपी दलीप सिंह और सिविल लाइन थाना एसएचओ जगमहिंद्र सिंह मौके पर पहुंचे।

14 साल के मृतक आशीष के पिता एएसआई

जानकारी मिली है कि मृतक आशीष के पिता एएसआई हैं। आशीष ओएसडीएवी स्कूल में 10वीं कक्षा का छात्रा था। एएसआइ जसवंत सिंह की भतीजी रेखा का आंखों का ऑपरेशन होना था, इसलिए वे पत्नी के साथ अंबाला गए थे लेकिन उन्हें क्या पता था कि उनके बेेटे के साथ ये घटना घट जाएगी। जानकारी मिली है कि जब वहां से कार में वापस कैथल आ रहे थे तो रास्ते में पहुंचने पर आशीष ने अपनी मां को फोन किया कि वह ट्यूशन जा रहा है। लेकिन जब वे पिहोवा के पास पहुंचे तो उनकी 9 साल की बेटी अंजली ने मां को फोन कर घटना की जानकारी दी। मां ने कहा कि जल्दी पड़ोसियों को बुलाओ।

अलमारी से पिता की पिस्तौल के साथ आशीष खेल रहा था

जानकारी मिली है कि घटना के समय अंजली बाहर कमरे में थी जबकि आशीष दूसरे कमरे में था और उसने अंदर से कुंडी मारी हुई थी। अलमारी से पिता की पिस्तौल के साथ आशीष खेल रहा था।आशीष ने पिस्तौल खिलौना समझ कर सीने पर लगाई औऱ चला दी। गोली सीधे उसके दिल पर लगी। अचानक जब गोली चलने की आवाज आई तो बहन अंजली ने दरवाजा खटखटाया लेकिन अंदर से कुंडी थी और भाई लहूहलुहान था। लेकिन जैसे तैसे कर आशीष ने दरवाजा खोला और बेहोश हो गया। पड़ोसी आशीष को निजी अस्पताल ले गए जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। जब तक माता-पिता भी अस्पताल पहुंच चुके थे। घर सहित पूरे पुलिस लाइन में कोहराम मचा हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here