…तो जिंदा नहीं हैं नंदा देवी ईस्ट फतह करने गए लापता आठ पर्वतारोही!

पिथौरागढ़: नंदा देवी ईस्ट को फतह करने गए पांच पर्वतारोहियों की मौत की आशंका जताई गई है। बताया जा रहा है कि सर्च ऑपरेशन के दौरान उनके शव नजर भी आ गए हैं। हालांकि अब तक इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है। आईटीबीपी के हेली सर्च में पर्वताराहियों को सामान बिखरा नजर आ रहा है। साथ ही पांच शव भी नजर आए हैं। जिस जगह से पर्वतारोही लपता बताए गए थे, उस स्थान पर हिमस्खलन होने के पहले ही संकेत मिले थे।

सर्च अभियान में पांच पर्वतारोहियों के शव दिखाई देने की बात सामने आई है। 13 मई को मुनस्यारी से पर्वतारोहियों का 13 सदस्यीय दल नंदा देवी ईस्ट फतह करने निकला था। बताया जा रहा है कि बेस कैंप पहुंचने के बाद पर्वतारोहियों ने चार और आठ सदस्यीय दो दल बनाकर चढ़ाई शुरू की। दोनों दलों को 25 मई को बेस कैंप लौटना था। चार सदस्यीय दल निर्धारित तिथि को बेस कैंप में लौट आया।

दूसरे दल के आठ सदस्यों के निर्धारित तिथि के चार दिन बाद भी बेस कैंप नहीं लौटने पर पहले दल के सदस्यों ने सेटेलाइट फोन से 31 मई को इंडियन माउंटेनियरिंग फेडरेशन को इसकी सूचना दी। लापता दल में ब्रिटेन निवासी लीडर मार्टिन मोरिन, ब्रिटेन के ही पर्वतारोही जोन चार्लिस मैकलर्न, रिचर्ड प्याने, रूपर्ट वेवैल, अमेरिका के एंथोनी सुडेकम, रोनाल्ड बीमेल, आस्ट्रेलिया की महिला पर्वतारोही रूथ मैकन्स और इंडियन माउंटेनियरिंग फेडरेशन के जनसंपर्क अधिकारी चेतन पांडेय शामिल हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here