दादा, परदादा के बाद बहादुर बिटिया बनी कैप्टन, आर्मी परेड को किया लीड

नई दिल्ली : गणतंत्र दिवस की मुख्य परेड में इस बार फिर देश की बेटी ने परेड को लीड किया। आर्मी परेड को लीड करने वालीं तानिया शेरगिल ने गणतंत्र दिवस परेड में भी सेना की टुकड़ी का नेतृत्व किया। कैप्टन शेरगिल के बारे में खास बात यह है कि वह अपने परिवार की चैथी पीढ़ी हैं। तानिया के परदादा, दादा और पिता भी देश की सेवा कर चुके हैं। अब चैथी पीढ़ी की बेटी देश सेवा में जुटी है।

तानिया शेरगिल पंजाब के होशियारपुर की रहने वाली हैं। सेना दिवस के बाद गणतंत्र दिवस पर भी परेड का नेतृत्व कर जिले का मान बढ़ाया। होशियारपुर के लोग अपनी इस बेटी की उपलब्धि पर काफी खुश हैं। तान्या अपने परिवार की चौथी पीढ़ी से हैं, जो सेना में सेवा कर रही हैं। इससे पहले सानिया के पिता सूरत सिंह गिल, दादा हरि सिंह और परदादा ईशर सिंह भी सेना में देश सेवा कर चुके हैं।

सेना में 101 फील्ड रेजीमेंट (सेल्फ प्रोपेल्ड) में 10 साल तक कप्तान के पद पर सेवा करने के बाद सीआरपीएफ में शामिल हुए तानिया के पिता सूरत सिंह 2016 में सीआरपीएफ से बतौर कमांडेंट रिटायर हुए। इस दौरान उन्हें बहादुरी के लिए राष्ट्रपति पदक से भी नवाजा गया। सूरत सिंह ने बताया कि उन्हें गर्व है कि उनकी बेटी तानिया ने परेड का नेतृत्व कर परिवार का मान बढ़ाया। तानिया के दादा (सूरत सिंह के पिता) हरि सिंह 14 आर्म्ड रेजीमेंट (14 सिंध हॉर्स) में सिपाही थे। परदादा ईशर सिंह 26 पंजाबी बटालियन में सिपाही थे और उन्होंने प्रथम विश्व युद्ध में भाग लिया था, जिसके लिए उन्हें सेवा मेडल व सर्विस स्टार से नवाजा गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here