उत्तराखंड : सर्किल रेट के शासनादेश से नाराज हैं लोग, सरकार पर बरसी इंदिरा हृदयेश

 

लालकुआं : राज्य सरकार की और से जारी किए गए सर्किल रेट के शासनादेश से नाराज कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने त्रिवेन्द्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए एक दिवसीय धरना प्रदर्शन किया। साथ ही कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने भाजपा सरकार को पूरी तरह जन विरोधी बताते हुए सरकार द्वारा लगाए गए सर्किल रेट को तुरंत वापस लेने की मांग की। नगर कांग्रेस कमेटी के तत्वाधान में आयोजित धरना प्रदर्शन में पहुंची नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश ने सरकार को घेरते हुए कहा कि सरकार शासनादेश में संशोधन कर पूर्ववर्ती सरकार द्वारा जारी किए गए सर्किल रेटों के बराबर रेट लागू करें। इसकी मार आर्थिक रूप से कमजोर लोगों पर पड़ेगी।

उन्होंने ने कहा कि वर्ष 2016 में कांग्रेस सरकार द्वारा जो शासनादेश जारी किया था। बिल्कुल उसी शासनादेश को मौजूदा सरकार ने भी लागू किया है। लेकिन, उस दौरान कांग्रेस सरकार गरीबों को निशुल्क एवं मध्यमवर्गीय लोगों के लिए वर्ष 2000 का सर्किल रेट लगाया था परंतु मौजूदा सरकार ने गरीबों के लिए वर्ष 2004 का सर्किल रेट लगा दिया और मध्यम वर्ग के लिए इस राशि को अत्यधिक बढ़ा दिया गया है, जिससे लालकुआं नगर में रहने वाले गरीब वर्ग के लोग अत्यधिक चिंतित हैं। वो सरकार से मदद की गुहार लगा रहे हैं। मौजूदा सरकार और सरकार के प्रतिनिधियों के कानों में इस मामले को लेकर जूं तक नहीं रेंग रही है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी इस मामले में आंदोलनात्मक तरीके से उठा रही है तथा इसे आगामी विधानसभा चुनाव में चुनावी मुद्दा भी बनायेगी। वर्तमान भाजपा सरकार विकास के काम करना छोड़ कर आम जनता को परेशान करने पर तुली हुई है, जिसके चलते आम जनता का भाजपा से मोह भंग हो गया है। आने वाले 2022 विधानसभा चुनाव में क्षेत्र की जनता भाजपा को करारा जवाब देगी। उन्होंने कहा कि लंबे समय से लालकुआं की जनता को उनकी भूमि का मालिकाना हक मिलने का इंतजार था। मौजूदा सरकार ने उनके मंसूबों पर पानी फेर दिया। उन्होंने सरकार को जनविरोधी बताते हुए इस्तीफे की मांग की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here