पुलवामा में 40 CRPF जवानों के बलिदान को न भूले हैं और न भूलेंगे : अजित डोभाल

गुरुग्राम : सीआरपीएफ के 80वें स्थापना दिवस पर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल ने परेड का निरीक्षण किया और साथ ही सीआरपीएफ के जवानों को संबोधित किया. सीआरपीएफ के 80वें स्थापना दिवस के मौके पर गुरुग्राम में कार्यक्रम आयोजित किया गया.

37 साल मैं भी पुलिस का हिस्सा रहा:अजित डोभाल 

इस दौरान अजीत डोभाल ने पुलवामा आतंकी हमले में शहीद 40 जवानों को श्रद्धांजलि दी। इस दौरान कहा कि जवानों का यह बलिदान देश भूला नहीं है और कभी भूलेगा भी नहीं।राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने भारत विभाजन के दौरान सीआरपीएफ के योगदान की सराहना कीडोभाल बोले कि मेरा भी इस यूनिफॉर्म के साथ और भारत की सुरक्षा से 51 साल से जुड़ाव है। इनमें से 37 साल मैं भी पुलिस का हिस्सा रहा.

अजीत डोभाल ने सीआरपीएफ के योगदान को महत्वपूर्ण बताते हुएकहा कि जब भी हमारी बैठकें होती हैं, चर्चा होती है, कि किस बल को भेजा जाना चाहिए, कितनी बटालियनों को भेजें, तब हम कहते हैं कि सीआरपीएफ को भेजा जाए. यह एक विश्वसनीय बल है, हम उन पर पूरी तरह भरोसा कर सकते हैं। इस तरह की विश्वसनीयता हासिल करने में सालों लग जाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here