कुमाऊं रेजिमेंट मुख्यालय में सेना का अंग बने 276 जांबाज, देश पर जान न्यौछावर करने की कसम

रानीखेत: कुमाऊं रेजिमेंट मुख्यालय (KRC) ने वभारतीय सेना को 276 जांबाज और दे दिए हैं। केआरसी मुख्यालय के ऐतिहासिक सोमनाथ ग्राउंड के बहादुरगढ़ से अंतिम पग पार करते ही सभी जवान सेना के अंग बन गये। केआरसी कमांडेंट ब्रिगेडियर जीएस राठौड़ ने भव्य परेड की सलामी ली। कहा कि सैन्य जीवन किसी कठिन तपस्या से कम नहीं।

इसमें उत्तराखंड से 144, उत्त्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान व अन्य राज्यों से 130 तथा नागालैंड से दो। 34 सप्ताह का कठिन प्रशिक्षण पूरा कर 276 रिक्रूट्स भारतीय सेना के अंग बने। मुख्य अतिथि ब्रिगेडियर राठौड़ ने परेड का निरीक्षण कर सलामी ली। जवानों में जोश भरते हुए कहा कि कुमाऊं रेजिमेंट का इतिहास गौरवशाली रहा है। अपने बच्चों को सेना में भेजने के लिए माता-पिता की सराहना भी की।

राष्ट्रीय ध्वज का नेतृत्व सूबेदार सुंदर सिंह व रेजिमेंट ध्वज का सूबेदार आनंद सिंह ने किया। इस मौके पर टे्रनिंग बटालियन कमांडर कर्नल केके मिश्रा, जीएसओ-1 ले. कर्नल गौरव किचलू, मेजर कार्तिक थापा, एसएम जीवन सिंह, सूबेदार तारा सिंह, सूबेदार हीरा सिंह समेत कई सैन्य अधिकारी मौजूद रहे। संचालन टीना टाकुली व सिपाही पवन भट्ट ने संयुक्त रूप से किया।

मुख्य अतिथि बिग्रेडियर जीएस राठौड़ ने प्रशिक्षण के दौरान विभिन्न क्षेत्रो में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले रिक्रूट्स को पदक से सम्मानित किया। इनमें बेस्ट इन ओवर ऑल दीपक सिंह, मयंक कुमार, बीपीटी में राहुल सिंह, शिवम कुमार, टीएसओटी में पंकज सिंह व मनोज जोशी, फायरिंग में सोनू दानू व सचिन बोरा, ड्रिल में तुषार जोशी तथा रिर्टन में अजय कुमार आदि। शपथ ग्रहण समारोह से पूर्व टे्रनिंंग बटालियन कमांडर कर्नल केके मिश्रा व अन्य सैन्य अधिकारियों ने ने सैन्य परंपरा के अनुसार भारतीय सेना का अंग बने जवानों के परिजनों से आत्मियता से मुलाकात कर हाल चाल जाना और गौरव पदक से सम्मानित भी किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here