डरे नहीं डटे रहे : उत्तराखंड के बहादुर बेटे गोपाल सिंह को मिला ‘सेना मेडल’

टिहरी : उत्तराखंड के लिए एक और गर्व से भरी खबर है। जी हां टिहरी जिले के डागर गांव के रहने वाले लांसनायक गोपाल सिंह पुत्र श्री सुन्दर सिंह पुण्डीर को सेना मेडल से नवाजा गया है जिससे उनके गांव में खुशी का माहौल है।

ये तो सभी जानते हैं कि उत्तराखंड के हर गांव और हर परिवार से कोई न कोई सेना में है और देश की रक्षा कर रहे हैं। अभी तक कई जाबांजों ने देश की रक्षा के लिए अपने प्राणों की कुर्बानी दी है। जिसके लिए मरणोप्रांत सम्मानित भी किया गया।वहीं एक ऐसा और वीर सपूत है जिसे अदम्य साहस और शौर्य के लिए सेना मेडल से नवाजा गया है।

आतंकियों से लिया लोहा, एक आतंकी को मार गिराया

जी हां टिहरे के एक छोटे से गांव के लड़के लांसनायक गोपाल सिंह को बहादुरी के लिए सेना मेडल मिला है। बता दें कि साल 2018 में जम्मू कश्मीर की एक बड़ी बिल्डिंग में कुछ आतंकी घुस गए थे। जैसे ही सेना को इसकी जानकारी मिली जवानों की एक टीम तुरंत आतंकियों का खात्मा करने के लिए मौके पर गई। लांसनायक गोपाल सिंह पुंडीर भी इसी टीम में थे। जैसे ही आतंकियों को सेना के आने की खबर मिली तो आतंकियों ने ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। इस दौरान लांसनायक गोपाल सिंह पुंडीर की हथेली पर गोली लगी लेकिन बावजूद इसके गोपाल सिंह पीछे नहीं हटे और आतंकवादियों से लोहा लेते हुए आतंकियों को धूल चटाई जिसमे उन्होंने एक आतंकवादी को मार भी गिराया। लांसनायक गोपाल सिंह के इस साहस और शौर्य को देखते हुए उन्हें सेना मेडल से नवाजा गया है।जिससे उत्तराखंड सहित उनके गांव में, क्षेत्र में खुशी की लहर है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here