उत्तराखंड के लोगों सावधान रहो, नहीं दी डीटेल फिर भी खाते से उड़ गए साढ़े 7 लाख

साइबर क्राइम

देहरादून : उत्तराखंड में साइबर ठगों का जाल बिछा हुआ है। अब तक कई लोगों को ये ठग दूर बैठे निशाना बना चुके हैं। किसी की जिंदगी भर की मेहनत की कमाई छीन चुके हैं। कइयों की जिंदगी से खिलवाड़ कर चुके हैं। बता दें कि उत्तराखंड में ये मामले बढ़ते जा रहे हैँ। उत्तराखंड पुलिस विभाग ने साइबर ठगों से निपटने के लिए साइबर थाना भी खोला और कइय़ों को इससे फायदा भी हुआ लेकिन लगातार ठग अपने काम को अंजाम दे रहे हैं।

ताजा मामला देहरादून के ओएनजीसी का है जहां के कर्मचारी के खाते से अज्ञात ने साढ़े 7 लाख रुपये उड़ा दिए। और सबसे ज्यादा हैरानी इस बात की है कि कर्मचारी ने अपने बैंक खाते से जुड़ी कोई भी जानकारी किसी को नहीं दी थी इसके बावजूद उसके खाते से साढे सात लाख रुपये उड़ गए। मामले की शिकायत कैंट कोतवाली पुलिस को की गई। पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। पुलिस ने आशंका जताई है कि इसमें बैंक अधिकारी या कर्मचारी की मिलीभगत हो सकती है।

शिकायतकर्त्ता विनोद कुमार निवासी कौलागढ़ ने पुलिस को बताया कि वो ओएनजीसी में तैनात हैं। उन्होंने किसी को भी अपना पासवर्ड या ओटीपी शेयर नहीं किया लेकिन सितंबर महीने में जब वह अपने एटीएम कार्ड का पासवर्ड अपडेट करने के लिए बैंक पहुंचे तो उनके होश उड़ गए। पुलिस को बताया कि उनके खाते से साढ़े सात लाख रुपये निकाले जा चुके थे। पैसे निकालने का मैसेज भी उनके फोन में नहीं आया. जबकि खाते से 10 अगस्त से पैसे निकाले जा रहे थे।

कैंट थानाध्यक्ष एश्वर्यापाल ने बताया कि सितंबर महीने में पीड़ित की ओर से शिकायत दर्ज करवाई गई थी। इसके बाद साइबर सैल से रिपोर्ट मांगी गई। जांच में पता लगा कि धनराशि की निकासी उड़ीसा से हुई है। मामले की जांच करवाई जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here