उत्तरकाशी में भारी बर्फबारी से बढ़ी ठंड, बर्फ की सफेद चादर से ढका हर्षिल

उत्तरकाशी : एक बार फिर से मौसम विभाग की भविष्यवाणी सही साबित हुई. मसूरी समेत धनोल्टी, नैनीताल, चमोली,पिथौरागढ़ औऱ उत्तरकाशी में पिछले दो दिनों से मौसम खराब था. मंगलवार दोपहर से ही मसूरी समेत कई पर्वतीय औऱ मैदानी जिलों में शुरू हुई झमाझम बारिश से तापमान गिरा तो वहीं बीती रात से ही मसूरी और धनोल्टी समेत कई पर्वतीय जिलों में बर्फबारी शुरू हो गई। जिससे कई स्कूल 29 जनवरी को बंद रखने की डीएम ने घोषणा की।

गंगोत्री औऱ यमनोत्री हाईवे बाधित

वहीं बात करे उत्तरकाशी की तो उत्तरकाशी में भी सुबह बर्फबारी हुई, जिससे गंगोत्री औऱ यमनोत्री हाईवे बाधित हो गया. वहीं हर्षिल में कई फीट तक बर्फबारी हुई जिसका पर्यटकों ने खूब लुत्फ उठाया।

बता दें कि मसूरी में साल की चौथी बर्फबारी हुई है। एक बार फिर बर्फबारी से स्थानीय लोगों और पर्यटकों के चेहरे खिल उठे हैं लेकिन मेहनत मजदूरी करने वालों के जीवन पर खासा असर पड़ रहा है। स्कूल जाने वाले विद्यार्थियों को भी स्कूल जाने में खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। लोगों के घरों में पानी के पाइप भी पाला पड़ने से जम गए हैं जिनसे पानी की आपूर्ति बाधित हो गई है. बर्फबारी के बाद पर्वतीय इलाकों और उसके आसपास मौसम में और भी ज्यादा ठंडक बढ़ गई है। स्थानीय लोगों के साथ ही देश-विदेश से यहां पहुंचे पर्यटकों ने बर्फबारी का खूब लुत्फ उठाया। वादियों में बर्फ की चादर देख पर्यटकों के चेहरे खिल उठे।

मसूरी धनोल्टी मार्ग बंद कर दिया गया है। मसूरी- कैंपटी मार्ग भी जीरो प्वाइंट के पास बंद कर दिया गया है। वहीं एलबीएस अकादमी रोड पर पेड़ गिरने के कारण रासता बंद हो गया है। जिसके कारण लोगों को आवाजाही में काफी परेशानी हो रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here