उत्तराखंड में फर्जी अस्पताल का कहर : छोटे-छोटे कमरों में कर रहे मरीज का इलाज, फिर महिला की मौत, डॉक्टर फरार

रुड़की :उत्तराखंड राज्य का स्वास्थ्य महकमा लापरवाही के मामले में एक बार फिर चर्चाओं में आ गया है। आलम यह है कि बड़े पैमाने पर रुड़की में चल रहे फर्जी हॉस्पिटल मरीजों के जीवन से  खिलवाड़ कर रहे हैं। इसका अंदाजा शायद स्वास्थ्य विभाग को भी नहीं है। हाल ही में अभी एक जच्चा और बच्चा की मौत हुई थी जिसके बाद एक बाऱ फिर से महिला की मौत से हंगामा मच गया।

ताज़ा मामला रुड़की के गुलाब नगर में एक फर्जी हॉस्पिटल का है जहां एक डिलीवरी के बाद  महिला की मौत से गुस्साए परिजनों ने जमकर हंगामा काटा। हंगामा इतना बढ़ा कि मौके पर पहुंचे पुलिस अधिकारियों  के साथ भी परिजनों की जमकर नोकझोंक हुई। सूचना मिलते ही मौके पर तहसील प्रशासन के साथ साथ हरिद्वार सीएमओ डॉक्टर सरोज नैथानी को भी पहुंचना पड़ा। गुस्साए परिजन महिला का पोस्टमार्टम होने का भी विरोध कर रहे थे जिसे लेकर पुलिस और परिजनों के बीच काफी नोकझोंक होती रही। हंगामा बढ़ता देख मौके से डॉक्टर और तमाम स्टाफ फरार हो गया। इसी बीच सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची सीएमओ हरिद्वार ने पूरे हॉस्पिटल को सील कर दिया है। पूरे मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं।पुलिस भी अपने तरीके से जांच में जुटी हुई  है।

दरअसल रामपुर गांव निवासी शबनम की डिलीवरी के बाद तीन दिन पहले हॉस्पिटल में भर्ती किया था लेकिन इसी बीच निजी हॉस्पिटल में महिला की लगातार हालत बिगड़ती गयी, जिसके बाद अचानक उसकी मौत हो गयी। महिला की मौत के बाद उसके परिजनों ने अस्पताल में जमकर  हंगामा काटना शुरू किया तो अस्पताल के डॉक्टर और प्रबंधन मौके से फरार हो गए। सूचना मिलते ही पुलिस फोर्स मौके पर पहुंची और महिला के शव को पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेज ने लगी जिसका परिजनों ने कड़ा विरोध किया। हंगामे की सूचना पर तहसील प्रशासन के साथ सीएमओ डॉक्टर सरोज नैथानी ने निजी हॉस्पिटल में सील लगाकर जांच बैठा दी है। फिलहाल अस्पताल प्रबंधन में हड़कंप मचा हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here